मदर्स डे स्पेशल : अनुपमा की कविता – “सब तुम हो माँ”

सब तुम हो माँ ईश्वर कहीं है तो वो तुम हो माँ। जन्नत कहीं है

मदर्स डे स्पेशल : घनश्याम प्रसाद की कविता – “मां का जीवन”

“मां का जीवन” मेरी माँ है तो आंगन है, तुलसी है, घर है.. चूल्हा है,

मदर्स डे स्पेशल : दिनेश लाल साव की कविता – “स्मृतियों की पगडण्डी पर”

स्मृतियों की पगडण्डी पर स्मृतियों की लताओं में उलझा सा इतराता रहा इस जीवन पर

मदर्स डे स्पेशल : रामअशीष प्रसाद की कविता – “माँ के आँचल में”

माँ के आँचल में माँ तुम्हारी आँचल की छाँव में जो सुख है वो कहीं

मदर्स डे स्पेशल : संचिता सक्सेना की कविता – “दुनिया है मां”

दुनिया है मां मां ने जीना सिखाया, सलीखा और फ़र्ज़ भी, हिम्मत भी बनी मेरी,

दिनेश लाल साव की कविता : संघर्ष

घनी अंधेरी रातों में उड़ते देखा है जूगनू को, लघु दीप का पुंज लिए उड़ती

कोरोना पर सुनिता की कविता : बेबसी और मानवता

ऊंची इमारतें, नीला आसमान चौड़ी सड़के हैं सुनसान बमुश्किल मिल रही रोटी बासी देश कोरोना

UGC NET हिंदी विषय की तैयारी कैसे करें

UGC NET के लिए हिंदी विषय का परीक्षा पैटर्न किसी भी परीक्षा के लिए परीक्षा