Home साहित्य

साहित्य

हिंदी साहित्य भारती की दो दिवसीय चिंतन बैठक संपन्न

0
डॉ. रविंद्र शुक्ल, दिल्ली : हिन्दी साहित्य भारती की प्रथम दो दिवसीय (27 एवं 28 नवम्बर 2021) चिन्तन बैठक हंसराज महाविद्यालय, दिल्ली मैं संपन्न...

भारतीय भाषा परिषद का पुनर्मिलन : काव्य संध्या 4 दिसंबर को

0
कोलकाता : हिन्द की जानी-मानी साहित्यिक संस्था भारतीय भाषा परिषद की ओर से (36ए, सेक्सपियर सरणी, कोलकाता - 17) 4 दिसंबर, 2021, दिन शनिवार...

विश्व की दस चर्चित भाषाओं में एक है हिंदी

0
अंकित तिवारी, प्रयागराज : हिन्दी विभाग, इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित व्याख्यानमाला के प्रथम सत्र में बोलते हुए महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय, गुजरात की हिन्दी विभागाध्यक्षा,...

एशियन लिटरेरी सोसाइटी का भाषा 2021 (बांग्ला) कार्यक्रम का आयोजन संपन्न

0
कोलकाता : एशियन लिटरेरी सोसाइटी (एएलएस) एवं जर्नल ऑफ एशियन आर्ट, कल्चर एंड लिटरेचर (जेएएसीएल) ने 27 नवंबर 2021 को भाषा 2021 (बांग्ला) कार्यक्रम...

नीलांबर द्वारा ध्रुवदेव मिश्र पाषाण पर केंद्रित कार्यक्रम का आयोजन

0
कोलकाता : नीलांबर कोलकाता द्वारा 'कोलकाता के रचनाकार' श्रृंखला के तहत हिंदी के वरिष्ठ कवि ध्रुवदेव मिश्र पाषाण पर केंद्रित कार्यक्रम का आयोजन 20...

कालिदास संस्कृत अकादमी, उज्जैन में तृतीय अंक संचेतना समाचार पत्र लोकार्पण सम्पन्न

0
उज्जैन : राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के मुख पत्र संचेतना समाचार के तृतीय अंक का लोकार्पण अखिल भारतीय शोध संगोष्ठी कालिदास समारोह में विक्रम विश्वविद्यालय...

संचेतना समाचार पत्र का लोकार्पण कालिदास अकादमी में आयोजित

0
उज्जैन : राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा प्रकाशित मासिक मुख पत्र ‘संचेतना समाचार‘ का लोकार्पण गुरूनानक देव जयंती ‘प्रकाश पर्व‘ के अवसर पर महाकवि कालिदास...

डीपी सिंह की रचनाएं

0
कुण्डलिया अम्मी जिसकी चर्च में, दादा कब्रिस्तान आज वही हिन्दुत्व पर, बाँट रहा है ज्ञान बाँट रहा है ज्ञान, देय उपनिषद दुहाई है जिसकी औकात, पिछत्तिस- साढ़े- ढाई अब...

बिरसा मुंडा जयंती के अवसर पर दो दिवसीय बहु – भाषिक अंतरराष्ट्रीय सेमिनार का...

0
सिलीगुड़ी। बिरसा मुंडा जयंती के शुभ अवसर पर 15 और 16 नवंबर को बिरसा मुंडा कॉलेज प्रांगण में दो दिवसीय बहु - भाषिक अंतरराष्ट्रीय...

स्मृति शेष : अभियान नयी कहानी और हिन्दी साहित्यिक की सबसे प्रसिद्ध लेखिका ‘मन्नू...

0
श्रीराम पुकार शर्मा, कोलकाता : विदेशी शक्तियों से देश की आजादी तो प्राप्त हो गई, परन्तु हमारा देशी समाज अभी भी परतंत्रता की बेड़ियों...

विशेष

युवा मंच