Home वैचारिकी

वैचारिकी

आशा विनय सिंह बैस की कलम से… फुटबॉल

0
नई दिल्ली । इंग्लैंड को आधुनिक फुटबॉल का जनक माना जाता है। इंग्लैंड में लोगों के झुंड फुटबॉल खेलते थे, जहां इसे 'मॉब फुटबॉल'...

आशा विनय सिंह बैस की कलम से… मुफ्त का चक्कर

0
नई दिल्ली । एयर फोर्स अकैडमी हैदराबाद के मुख्य गेट यानी अन्नाराम की तरफ से अंदर प्रवेश करिए और अगर नाक की सीध में...

अमिताभ अमित-mango people की कलम से… प्रेम पर चर्चा

0
अमिताभ अमित, पटना । पटना कॉलेज में साहित्य विभाग के प्रोफेसर मटुकनाथ जी हो या फ़िल्म पार्टनर के लव गुरु सलमान खान, मोहब्बत को...

आशा विनय सिंह बैस की कलम से…अगहन माह

0
नई दिल्ली । 'देवशयनी एकादशी' से शुरू होकर 'देवोत्थान एकादशी' को समाप्त हुआ चातुर्मास (श्रावण, भाद्रपद, आश्‍विन और कार्तिक महीना) का कठिन समय गुजर...

आशा विनय सिंह बैस की कलम से…बिल्कुल असत्य घटना पर आधारित कहानी!

0
नई दिल्ली । शर्मा जी पढ़ने-लिखने में होशियार थे और देखने-सुनने में स्मार्ट।कामकाज के मामले में भी वह तेजतर्रार थे। बस उनकी एक ही...

विनय सिंह बैस की कलम से…केंद्रीय सचिवालय!!

0
नई दिल्ली । राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट की तरफ चलिए तो बाई तरफ नार्थ ब्लाक, दाहिनी तरफ साउथ ब्लॉक और कर्तव्य पथ के...

विनय सिंह बैस की कलम से… डिजिटल इंडिया!!

0
नई दिल्ली । आज अपनी तारीफ खुद ही कर लेते हैं। हमारी सेहत का राज यह है कि हम लंच करने के बाद टहलते...

बच्चों को समाज मे घट रही श्रद्धा जैसी घटनाओ से अवगत कराएं!

1
डॉ. विक्रम चौरसिया, नई दिल्ली । आप भी अपने बच्चों को खूब जरुर पढ़ाएं, आजादी भी दें, मगर इतनी भी नहीं कि वो जंगलों...

पुरुष दिवस विशेष : पुरुष कौन है??

0
विनय सिंह बैस, नई दिल्ली । बेटी के लिए 'परफेक्ट मैन', बेटे के लिए 'सुपरमैन', पत्नी के लिए 'ही मैन' और मां के 'जेंटलमैन'...

ऊंचाहार ‘बैलगाड़ी’ एक्सप्रेस!!

0
विनय सिंह बैस, नई दिल्ली । सन 1988 में रायबरेली के ऊंचाहार कस्बे में थर्मल पावर स्टेशन स्थापित हुआ तो ऊंचाहार को देश की...

विशेष

युवा मंच