कोलकाता। देश के साथ पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच कोलकाता में इस साल भव्य तरीके से दुर्गा पूजा की तैयारी शुरू हो गई है। बता दें कि यूनेस्को ने बंगाल की दुर्गा पूजा को सांस्कृतिक विरासत का दर्जा दिया है। महानगर में एक बड़े बजट की दुर्गा पूजा के आयोजक बिकास बसु को उम्मीद है कि कोविड की स्थिति पिछले दो वर्षों की तरह दुर्गा पूजा के आयोजन में बाधा नहीं बनेगी। कॉलेज स्क्वायर सर्बोजनिन दुर्गा पूजा के सदस्य का कहना है कि इस बार बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरेंगे। हाल ही में कोरोनो के मामलों में वृद्धि के बावजूद, कॉलेज स्क्वायर सहित सामुदायिक समितियां कोलकाता में दुर्गा पूजा’ मनाने के लिए पूर्ण पैमाने पर तैयारी कर रही है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इस साल दुर्गा पूजा के अवसर पर जुलूस निकालने और भव्य आयोजन की तैयारी का निर्देश दिया है। कई आयोजकों ने ‘खूंटी पूजा’ कर ली है। इस दिन से दुर्गा पूजा की तैयारियों शुरू होती है। बंगाल में लगभग सभी बड़े पूजा पंडाल में इस साल खूंटी पूजा का आयोजन किया गया है। विकास बसु ने कहा, “इस साल हमारे पास 80-90 लाख रुपये का बजट है, जो महामारी के समय 50-60 लाख रुपये से अधिक है। पिछले साल की तुलना में प्रायोजकों का समर्थन अधिक है। एसोसिएशन अपने 75 साल के जश्न की योजना के साथ आगे बढ़ रहा है। पूजा आयोजन में थीम और बिजली की साज-सज्जा पर ध्यान दिया जा रहा है।

मूर्ति की ऊंचाई करीब 15 फीट होगी, जो पिछले दो साल से ज्यादा है. एक अन्य पुरस्कार विजेता पूजा आयोजक – भवानीपुर में 75 पल्ली – का कहना है कि लोग इस साल दुर्गा पूजा को नहीं मानने के “कोई मूड नहीं” में हैं। उच्च न्यायालय और प्रशासन द्वारा कई प्रतिबंधों के कारण पिछले दो वर्षों में हज़ारों लोगों को मूर्ति को पंडाल के अंदर से देखने से वंचित कर दिया था। वहीं, सुबीर दास कहते हैं,  2020 और 2021 में, 75 पल्ली ने आकार और रोशनी में 50 प्रतिशत की कटौती की थी। हमारे सदस्य स्तब्ध थे।

इस साल समिति ने प्रवेश द्वार को और अधिक सुलभ बनाने की योजना बनाई है, उम्मीद है कि इस तरह के प्रतिबंध नहीं होंगे। रवींद्र सरोबार के पास शिवमंदिर सर्वजनिन दुर्गा पूजा के एक अधिकारी पार्थ घोष इस बात को रेखांकित करते हैं कि भले ही कोविड -19 मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन वायरस उतना घातक नहीं है, जितना पहले हुआ करता था। घोष कहते हैं, जनता की उम्मीदों और अपने सदस्यों और इलाके के लोगों की भावनाओं को देखते हुए हमने पूजा को बड़ा बनाने का फैसला किया है।

उत्तर कोलकाता में पुरानी पूजाओं में से एक, बेलेघाटा संधानी के एक प्रवक्ता ने कहा, “हम देवी को उनकी पारंपरिक और सामान्य ऊंचाई के साथ प्रतिमा बनाना चाहते हैं। एकडालिया एवरग्रीन क्लब के एक अधिकारी ने कहा कि दिवंगत अध्यक्ष सुब्रत मुखर्जी, जो 50 वर्षों से समिति से जुड़े थे, चाहते थे कि इस साल परांपरिक और भव्य तरीके से पूजा का आयोजन हो।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + eighteen =