अन्नदाता हुए परेशान तो उठेगा तूफान 

तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : हमारे अन्नदाता किसान यदि परेशान हुए तो देश में आंदोलन और आक्रोश का  ऐसा   तूफान खड़ा होगा जो सरकार की  चूलें  हिला कर रख देगा । इसलिए पूंजीपतियों की  दलाली कर रहे सत्ताधीशों को अभी भी चेत जाना चाहिए । यह बात वामपंथी और कांग्रेस समेत तमाम भाजपा विरोधी संगठनों के नेताओं ने कही । सरकार द्वारा पेश कृषि सुधार बिल के विरोध में शुक्रवार को खड़गपुर तहसील के नारायणगढ़  में  आयोजित रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने यह कहा ।
सभा को संबोधित करने वालों में  भाकपा के  विप्लव भट और माकपा के  तापस  सिन्हा प्रमुख रहे । अपने संबोधन में  वक्ताओं ने कहा कि कोरोना काल में  सरकार को ऐसी क्या जल्दी थी कि नई कृषि नीति को आनन फानन लागू करने की  कोशिश की  जाने लगी । जबकि  इस संबंध में  किसानों व राजनैतिक संगठनों की  राय जानने की भी  कोशिश नहीं की  गई । इसकी आड़ में  पूंजीपतियों की  दलाली और फसल पर दिया जाने वाला न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म करने की  कोशिश की  जा रही है । इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ।
हैरत है कि जिन किसानों के  लिए यह बिल लाया गया है उससे किसान ही खुश नहीं है , जबकि सरकार खुद को बड़ा किसान हितैषी साबित करना चाह रही है । इतिहास गवाह है कि अन्नदाता किसानों की  नाराजगी ने बड़े बड़े सत्ता प्रतिष्ठानों के  अहंकार  को धूल में  मिलाया है । इस सरकार को भी खामियाजा  भुगतना होगा । राष्ट्रीय स्तर पर इसके खिलाफ आंदोलन होगा ।
Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 16 =