टीवी पॅ ख़बर चली, बात सबको ये खली
अब कोई नज़रों का तारा ही नहीं रहा

ख़ुशियों के इंडेक्स में देश काफ़ी पिछड़ा है
आज कल कहीं भाई-चारा ही नहीं रहा

शादी-शुदा लड़के हैं परेशान इससे कि
बेचारों के पास कोई चारा ही नहीं रहा

लड़कियाँ दुखी हैं कि मेक-अप कराएँ काहे
शहर में कोई भी कुँवारा ही नहीं रहा

–डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + ten =