घर में यहाँ पर परलोक गए पितरो की तस्वीर लगाने से आप हो सकते हैं परेशान

पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री, वाराणसी । दादा, दादी, माता, पिता सभी जो इस दुनिया से जा चुके हैं वह पितर और पूर्वज कहलाते हैं। इनके चले जाने के बाद भी इनका हमारे दिल से गहरा नाता रहता है। बहुत से लोग इनकी तस्वीरों को देवताओं के समान पूजा घर में रखकर पूजा करते हैं। शास्त्रों के अनुसार पितर देवताओं के समान शक्तिशाली होते हैं लेकिन देवताओं के स्थान पर इन्हें नहीं रखना चाहिए। देवताओं से साथ इनकी तस्वीरों को रखने से देवदोष लगता है, देवता नाराज होते हैं। वास्तु विज्ञान के अनुसार इनकी तस्वीरों को घर में जरूर रखना चाहिए, लेकिन कुछ खास नियमों का पालन भी करना चाहिए तभी पितरों और देवताओं की कृपा हमें मिल पाती है।

यहां पितरों की तस्वीर लगाने से बढ़ जाती है कलह :
वास्तु के अनुसार, पितरों की तस्वीरों को भूलकर भी उस जगह न लगाएं जहां आप सोते हों, यानी बेडरूम में इनकी तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। साथ ही किचन में भी इनकी तस्वीर न लगाएं। जिन घरों में इन बातों का ध्यान नहीं रखा जाता है उन घरों में पारिवारिक कलह बढ़ जाती है और सुख-समृद्धि में कमी आती है।

नहीं मिलता किसी तरह का शुभ फल :
घर के मंदिर में कभी भी पितरों की तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। शास्त्रों में ऐसा करना वर्जित बताया गया है। पितरों की तस्वीरों को देवी-देवताओं के साथ रखने से देवदोष लगता है। पितर और देवताओं का स्थान अलग निर्धारित है। पितर देवताओं के समान आदरणीय और सामर्थवान होते हैं। दोनों को साथ में रखने से किसी के आशीर्वाद का शुभ फल नहीं मिल पाता है।

घर की समृद्धि के लिए नहीं है सही :
घर में जहां से सभी स्थान से तस्वीर पर नजर जाती हो उस स्थान पर पितरों की तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। जबकि अक्सर भावुकता में लोग ऐसा ही करते हैं। इससे बार-बार पितरों की तस्वीर पर नजर जाती है और मन में निराशा का भाव उत्पन्न होता है। दक्षिण और पश्चिम की दीवारों पर भी पितरों की तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। इससे सुख-समृद्धि की हानि होती है।

यहां तस्वीर लगाने से हो जाती है आयु कम :
घर के पितरों की तस्वीर को कभी भी जीवित लोगों की तस्वीर के साथ नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता है, जिस जीवित व्यक्ति के साथ पितरों की तस्वीर लगी होती है, उन पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे उनकी आयु में कमी आती है, साथ ही जीवन जीने का उत्साह कम होता है।

ऐसे तो ना रखें पितरों की तस्वीर :
पितरों की तस्वीर कभी भी लटका कर नहीं रखना चाहिए। इनकी तस्वीर को रखने के लिए स्टैंड बनवा लेना चाहिए। घर में किसी भी पूर्वज की एक से अधिक तस्वीर नहीं रखनी चाहिए। इन्हें ऐसे स्थान पर भी ना रखें जिससे आते-जाते इन पर नजर जाए। इससे नकारात्मकता आती है।

इस जगह लगा सकते हैं पितरों को तस्वीर :
वास्तु शास्त्र के अनुसार, पितरों की तस्वीरों को हमेशा घर के उत्तरी हिस्से के कमरों में लगाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं कर सकते तो जिस भी स्थान पर लगाएं वहां उत्तरी दिवार से इनकी तस्वीर से लगाएं ताकि इनकी दृष्टि दक्षिण की ओर रहे। दक्षिण की दिशा को यम और पितरों की दिशा कहा गया है। इससे अकाल मृत्यु और संकट से बचाव होता है।

पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें
जोतिर्विद वास्तु दैवज्ञ
पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री
9993874848

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 + 11 =