Puja Parikrama : 223 साल पुरानी रीति के अनुसार हवाई फायरिंग कर शुरू होती है राय जमींदार के दालान में दुर्गा पूजा

मालदा। 223 साल पुरानी रीति के अनुसार पांच राउंड हवाई फायरिंग कर राय जमींदार के दालान में दुर्गा पूजा की शुरुआत होती है। मालदा जिले के पूर्वी छोर पर हबीबपुर थाने के सिंघाबाद तिलासन इलाके में सिंघाबाद जमींदार के घर पर 223 साल पुरानी यह प्रथा आज भी जारी है। 1947 में देश के विभाजन के परिणामस्वरूप इस जमींदारी राज्य का अधिकांश भाग तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान के वर्तमान बांग्लादेश के हिस्से में चला गया, लेकिन आज भी विशाल राय जमींदारी दालान भारतीय क्षेत्र में कंटीले तारों की सीमा से 50 मीटर की दूरी पर स्थित है।

विशाल कोठी के विभिन्न हिस्सों में दरारें दिखने लगी हैं। लेकिन दुर्गा पूजा की परंपरा अभी भी कायम है. इस जमींदार रियासत के वंशज राकेश कुमार राय ने बताया कि इस वर्ष भी सप्तमी के दिन पूजा के लिए पुनर्भवा नदी से जल लाया जायेगा. उस समय पांच राउंड हवाई फायरिंग कर पूजा की शुरुआत की जाती है और इस साल भी ऐसा ही होगा।

vlcsnap-2023-10-04-17h51m02s166उत्तर प्रदेश के मैथिल ब्राह्मण इस पूजा में भोग बनाने से लेकर हर काम करते हैं। पूजा के दसमी के दिन, मूर्ति को इस तिलासन गांव के पास पूर्णभावा नदी में विसर्जित कर दिया जाता है। इस पूजा के अवसर पर चार दिवसीय भोजन की व्यवस्था है। इस पूजा में भाग लेने के लिए जिले के विभिन्न हिस्सों से लोग इस सीमावर्ती गांव में आते हैं।