महात्मा ज्योति बा फुले की जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को महात्मा ज्योति बा फुले को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि महात्मा फुले को सामाजिक न्याय के चैंपियन और अनगिनत लोगों के लिए आशा के स्रोत के रूप में व्यापक रूप से सम्मानित किया जाता है। एक ट्वीट में मोदी ने कहा, “महात्मा फुले को सामाजिक न्याय के चैंपियन और अनगिनत लोगों के लिए आशा के स्रोत के रूप में व्यापक रूप से सम्मानित किया जाता है। वह एक बहुआयामी व्यक्तित्व थे जिन्होंने सामाजिक समानता, महिला सशक्तिकरण और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अथक प्रयास किया।”

एक अन्य ट्वीट में, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने पिछले महीने की ‘मन की बात’ कार्यक्रम में उनसे जुड़ा एक हिस्सा साझा किया था। प्रधानमंत्री ने कहा, “आज महात्मा फुले की जयंती है और कुछ ही दिनों में 14 तारीख को हम अंबेडकर जयंती मनाएंगे। भारत महात्मा फुले और डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर के स्मारकीय योगदान के लिए हमेशा उनका आभारी रहेगा।”

‘मन की बात’ के दौरान, प्रधान मंत्री ने कहा था, “अप्रैल के महीने में हम दो महान हस्तियों की जयंती भी मनाएंगे। दोनों ने भारतीय समाज पर अपना गहरा प्रभाव छोड़ा है। ये महान हस्तियां महात्मा फुले और बाबासाहेब अम्बेडकर हैं। इन दोनों महापुरुषों ने भेदभाव और असमानता के खिलाफ लगातार लड़ाई लड़ी। महात्मा फुले ने उस युग में लड़कियों के लिए स्कूल खोले, कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ आवाज उठाई। उन्होंने जल संकट से छुटकारा पाने के लिए बड़े अभियान भी चलाए।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि महात्मा फुले के संदर्भ में सावित्रीबाई फुले जी समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। सावित्रीबाई फुले ने कई सामाजिक संस्थाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। एक शिक्षिका और समाज सुधारक के रूप में उन्होंने समाज को जागरूक भी किया और प्रोत्साहित भी किया। प्रधानमंत्री ने कहा था कि उन्होंने मिलकर सत्यशोधक समाज की स्थापना की, उन्होंने लोगों के सशक्तिकरण के लिए प्रयास किए। हम बाबासाहेब अम्बेडकर के काम में महात्मा फुले के प्रभाव को स्पष्ट रूप से देख सकते हैं। वे यह भी कहते थे कि किसी भी समाज के विकास का आकलन उस समाज की महिलाओं की स्थिति देखकर किया जा सकता है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − seven =