करिश्माई वापसी के साथ नडाल ने जीता रिकॉर्ड 21वां ग्रैंड स्लेम खिताब

मेलबर्न। स्पेन के राफेल नडाल ने दो सेट हारने के बाद करिश्माई वापसी करते हुए रविवार को रूस के दानिल मेदवेदेव को पांच सेटों के मैराथन संघर्ष में 2-6, 6-7(5), 6-4, 6-4, 7-5 से हराकर रिकॉर्ड 21वां ग्रैंड स्लेम खिताब जीत लिया। नडाल ने मेदवेदेव के खिलाफ पांच घंटे 24 मिनट तक चले मुकाबले में जीत दर्ज की। नडाल इस जीत के साथ सर्बिया के नोवाक जोकोविच और स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर से आगे निकल गए हैं जिनके नाम 20-20 ग्रैंड स्लेम खिताब हैं। नडाल ने अब तक करियर में अब तक कुल 90 टाइटल जीते हैं।

21 ग्रैंडस्लैम मैं उन्होंने 13 फ्रेंच ओपन टाइटल (2005, 2006, 2007, 2008, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2017, 2018, 2019, 2020), दो विम्बलडन टाइटल (2008, 2010), चार यूएस ओपन टाइटल (2010, 2013, 2017, 2019) और दो बार ऑस्ट्रेलियन ओपन (2009, 2022) जीता है। नडाल का यह दूसरा ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब है। उन्होंने 13 साल के अंतराल के बाद जाकर यह खिताब जीता है। इससे पहले उन्होंने 2009 में पहली बार यह खिताब जीता था जबकि वह 2012, 2014, 2017 और 2019 में मेलबोर्न फ़ाइनल में हारे थे।

स्पेन के नडाल का ग्रैंड स्लेम फ़ाइनल में अब 21-8 का रिकॉर्ड हो गया है। वर्ष 2019 में जोकोविच के हाथों मेलबोर्न फ़ाइनल हारने के बाद ग्रैंड स्लेम फ़ाइनल में नडाल की यह लगातार चौथी जीत है। दूसरी तरफ मेदवेदेव की ऑस्ट्रेलियन ओपन फ़ाइनल में यह लगातार दूसरी हार है। पिछले वर्ष फरवरी में जोकोविच ने उन्हें फ़ाइनल में हराया था। ग्रैंड स्लेम फाइनल्स में उनका रिकॉर्ड अब 1-3 हो गया है। छठी सीड नडाल खिताबी मुकाबले में दूसरी सीड मेदवेदेव के खिलाफ पहले दो सेट हार गए थे लेकिन उनका जज्बा बरकरार था। उन्होंने तीसरा और चौथा सेट 6-4 के अंतर से जीतकर मुकाबले में 2-2 से बराबरी कर ली।

निर्णायक सेट में दोनों खिलाड़ी 5-5 की बराबरी पर थे लेकिन नडाल ने 11वें गेम में निर्णायक ब्रेक हासिल किया और 6-5 से आगे हो गए। नडाल ने 12वें गेम में अपनी सर्विस बरकरार रखी और फिर रिकॉर्ड ग्रैंड स्लेम खिताब जीतने का जश्न मनाया। नडाल इस जीत के साथ ही जोकोविच के बाद दूसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिसने चारों ग्रैंड स्लेम में एक से ज्यादा खिताब जीते हैं। 35 वर्षीय नडाल ओपन युग में केन रोसवाल और फेडरर के बाद कोई ग्रैंड स्लेम खिताब जीतने वाले तीसरे सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन गए हैं।

ग्रैंड स्लेम में नडाल ने कुल मिलाकर 339 मैच खेले हैं। इसमें उन्होंने 298 मैच जीते हैं, जबकि 41 मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा है। ऑस्ट्रेलियन ओपन में नडाल ने 91 मुकाबले खेले हैं। इसमें से उन्होंने 76 मैच जीते हैं और 15 में हार का सामना करना पड़ा है। वह अब तक इस सीजन में लगातार 10 मैचों से अजेय हैं।
नडाल का यह चारों ग्रैंड स्लेम मिलाकर 29वां फाइनल था। उन्होंने अब तक फ्रेंच ओपन के सबसे ज्यादा 13 फाइनल मुकाबले खेले हैं और इन सभी में जीत हासिल की है।

वहीं, ऑस्ट्रेलियन ओपन का यह उनका छठा फाइनल था, जिसमें से उन्होंने सिर्फ दो जीते हैं। नडाल यूएस ओपन और विम्बलडन के पांच-पांच फाइनल मुकाबले खेल चुके हैं। यूएस ओपन वह दो बार और विम्बलडन चार बार जीत चुके हैं। यह नडाल के करियर में सिर्फ चौथी बार है जब उन्होंने शुरुआती दो सेट हारने के बाद मैच जीता हो। सबसे पहले 2005 मैड्रिड मास्टर्स में नडाल ने ऐसा किया था, जब उन्होंने क्रोएशिया के इवान लुबिचिच को 3-6, 2-6, 6-3, 6-4, 7-6 से हराया था। इसके बाद 2006 और 2007 विम्बलडन में भी यही दम दिखाया।

2006 विम्बलडन में नडाल ने शुरुआती दो सेट में पिछड़ने के बाद रॉबर्ट केन्ड्रिक को 6-7, 3-6, 7-6, 7-5, 6-4 से हराया था। वहीं, 2007 विम्बलडन में दो सेट में पिछड़ने के बाद मिखाइल युजनी को 4-6, 3-6, 6-1, 6-2, 6-2 से हराया था। यानी 15 साल बाद नडाल ने फिर ऐसा किया है। ऑस्ट्रेलियन ओपन में पहली बार नडाल शुरुआती दो सेट में पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए मैच जीत पाए हैं।

35 साल के नडाल की मौजूदा वर्ल्ड रैंकिंग पांच है। इस टूर्नामेंट से पहले तक नडाल, जोकोविच और फेडरर 20-20 ग्रैंड स्लेम जीत कर एक बराबरी पर थे। हालांकि, अब नडाल बाकी दोनों से आगे निकल गए हैं। जोकोविच यह टूर्नामेंट वीजा रद्द होने की वजह से नहीं खेल पाए। वह डिफेंडिंग चैंपियन थे और उन्होंने सबसे ज्यादा नौ बार ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + thirteen =