हावड़ा में घटी दिल दहलाने वाली घटना, 10 दिनों से बेटी के शव के साथ रह रही थी मां

प्रतीकात्मक फोटो, साभार : गूगल

हावड़ा : हावड़ा के शिवपुर में घटी दिल दहलाने वाली घटना, 10 दिनों से बेटी के शव के साथ रह रही थी वृद्ध मां। हावड़ा के शिवपुर इलाके में करीब दस दिनों तक मां अपनी बेटी की सड़ी-गली लाश के साथ जमीन पर पड़ी रही। रविवार सुबह इस तरह की घटना की खबर से हावड़ा में हड़कंप मच गया। बाद में पुलिस ने आकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस घटना से हावड़ा के शिवपुर थाना क्षेत्र के मल्लिक पाड़ा इलाके के निवासियों में दहशत फैल गई है। मृतक की पहचान 45 वर्षीय श्यामली मलिक के रूप में हुई है। उनकी मां दीप्ति मलिक हैं। वृद्ध महिला घर में अपनी बेटी के साथ अकेली रहती थी। वे दोनों दो महीने से बीमार थे। घर के पास रिश्तेदार रहते हैं, लेकिन आरोप है कि किसी ने उनकी सुध नहीं ली।

वृद्ध महिला ने कहा, ‘उसका पति एक निजी कंपनी में काम करता था। तीन साल पहले उसकी भी मौत हो गई थी। उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है.” हालांकि श्यामली देवी के भतीजे शुभदीप कभी-कभार ही आ जाया करते थे। वह कभी-कभी खाना लेकर आया करता था। रविवार को वह फिर आया था, तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। उसने जैसे ही घर में प्रवेश किया, पूरे घर में बदबू फैली हुई थी। उसने घर में प्रवेश किया तो देखा कि श्यामली का सड़ा हुआ शरीर वहीं पड़ा हुआ है और उसके बगल में बूढ़ी मां है। सूचना मिलने के बाद शिवपुर पुलिस मौके पर पहुंची। शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। शुभदीप मल्लिक ने बताया कि वह समय-समय पर खाना लेकर आते-जाते रहते थे, लेकिन वह इस बात का स्पष्ट जवाब नहीं दे सके कि दोनों मरीजों का इलाज क्यों नहीं किया गया। हालांकि, शुभदीप ने माना है कि लापरवाही हुई है।

स्थानीय लोगों ने कहा, “उनमें से कोई भी घर से बाहर नहीं जाते थे। कभी-कभी उनके परिजन भी आ जाते थे, वह भोजन पहुंचा जाते थे हालांकि कई सालों तक किसी ने घर से बाहर नहीं निकला है। पता चला है कि श्यामली देवी के पास करीब चार कट्टे जमीन पर मकान है। हालांकि, अगर उनकी मृत्यु हो जाती है, तो संपत्ति पर कब्जा करने का लाभ रिश्तेदारों को मिलेगा, यही वजह है कि लापरवाही? यही सवाल उठाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि साल 2015 में शेक्सपियर सारणी थाना इलाके के रॉबिंसन स्ट्रीट में पार्थ घोष नामक एक व्यक्ति अपनी मृत मां, बहन और कुत्ते के शव के साथ छह महीने तक रहा था। यह घटना पूरी दुनिया में सुर्खी बनी थी।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 3 =