खुफिया विभाग का दावा || भांगड़ हिंसा के पिछे जेएमबी आतंकियों का हाथ

कोलकाता। भांगड़ में हिंसा के पिछे बांग्लादेश ‌के प्रतिबंधित आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिदीन (जेएमबी) आतंकियों की भूमिका है। केंद्रीय खुफिया विभाग ने यह दावा किया है। दावा है कि उपद्रव के पीछे बांग्लादेशी जेएमबी उग्रवादियों और रोहिंग्याओं का हाथ होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।पंचायत चुनाव को लेकर एक माह से अधिक समय से सरगर्मी बनी हुई है। केंद्रीय खुफिया एजेंसी का मानना है कि मतगणना के दिन और रात में लगातार हुए बम विस्फोट और पुलिस पर गोलीबारी, आम राजनीतिक कार्यकर्ताओं या छुपे अपराधियों का काम नहीं है।

उनके मुताबिक दूरदराज के गांवों के युवाओं को गुमराह करने के लिए बम और अवैध आग्नेयास्त्रों से हमले किए जा रहे हैं। यह पहली बार नहीं है। इससे पहले पावर ग्रिड विरोधी आंदोलन भी हिंसक हो गया था। राज्य प्रशासन ने आंदोलन से सख्ती से निपटा था। इस बार भी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पुलिस को उपद्रवियों पर नकेल कसने का निर्देश दिया है।

पंचायत चुनाव में अशांति के पीछे के मास्टरमाइंड की पहचान के लिए सीआईडी को जांच सौंपी गई है। शुक्रवार को फॉरेंसिक और सीआईडी की टीम मौके पर गई थी। वह कथलिया हाई स्कूल से सटे इलाके में पहुंचे और नमूने एकत्र किये थे। सड़क किनारे जहां शव पड़े थे उन जगहों की जांच करने के साथ ही खून के नमूने भी एकत्र किए गए हैं।