भारत-चीन सीमा पर जो कुछ हुआ जनता को बताएं प्रधानमंत्री : अशोक गहलोत

फोटो, साभार : गूगल

जयपुर : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनका यह बयान वापस लेने की मांग की है कि चीन ने हमारी जमीन पर कोई घुसपैठ या किसी पोस्ट पर कब्जा नहीं किया। गहलोत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री को देश की जनता को बताना चाहिए कि सीमा पर क्या हुआ है।
उन्होंने कहा कि ‘ जिस रूप में प्रधानमंत्री ने विपक्षी पार्टियों के साथ बैठक के दौरान कहा था कि चीन हमारी जमीन पर आया ही नहीं है, न हमारी किसी चौकी पर कब्ज़ा है, वह उन्होंने बडी भूल की है।’

गहलोत ने कहा कि ‘ नरेन्द्र मोदी देश के पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिनके वक्तव्य का चीन में स्वागत हुआ है। वहां की मीडिया में भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वक्तव्य का स्वागत हो रहा है, वहां की सरकार स्वागत कर रही है। चूंकि जो चीन चाहता था उसका प्रमाणपत्र हमारे देश के प्रधानमंत्री ने जाने-अनजाने में दे दिया, जिसकी जरूरत नहीं थी।’

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से पड़ोसी देशों में मिजाज भारत के खिलाफ होने के बारे में स्पष्टीकरण की मांग करते हुए कहा कि 2014 में जब राजग की सरकार बनी थी तब प्रधानमंत्री ने पड़ोसी देशों के राष्ट्रध्यक्षों को बुलाया था। उन्होंने कहा कि एक अच्छी शुरुआत हुई थी लेकिन और अब क्या कारण है कि इतने कम अरसे के अंदर आज तमाम पड़ोसी मुल्क के जो मिजाज़ हैं वो हमारे खिलाफ हो गए?

गहलोत ने कहा ‘मैं समझता हूं कि यह पूछने का देशवासियों का हक है कि नियंत्रण रेखा पर वास्तव में स्थिति क्या है ?’’
उन्होंने कहा,‘‘ क्या प्रधानमंत्री की नैतिक जिम्मेदारी नहीं है कि वो तमाम मुल्कों को विश्वास में लें। जब कभी भी सीमा पर घटनाएं हुईं तो पूरा देश एकजुट रहा है। आज भी विपक्षी पार्टियां बिना कोई शर्त के एकजुट हैं प्रधानमंत्री और सरकार के साथ है।’ गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री वस्तुस्थिति बताने में क्यों संकोंच कर रहे है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three + 16 =