वैलन्टाइन वीक : लो आया प्यार का मौसम

फोटो साभार : गुगल

डॉ. अखिल बंसल, जयपुर । त्याग और विश्वास की एक ऐसी डोर है जिसे शब्दों में नहीं पीरो सकते बस महसूस कर सकते हैं, इसका नाम है प्यार। प्यार ढाई अक्षर का नाम नहीं अपितु एक एहसास है। दो दिलों की धड़कन प्यार के बंधन में अपार खुशियां समेटे रहती है। दुनियाँ का हर बंधन प्यार से बना होता है। अगर एक बार किसी से निस्वार्थ प्यार हो जाता है तो लाख कोशिश करो आसानी से वह बंधन टूटता नहीं। जीवन में यदि प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं। नीरस जीवन कोई नहीं जीना चाहता। प्यार चाहत का ही दूसरा नाम है, इस चाहत को कायम रखने के लिए समय देना आवश्यक होता है। यदि आपने अपने प्यार को समय नहीं दिया तो दूरियां बनते देर नहीं लगती।

आज की भागम-भाग में वक्त भी खोता जा रहा है जिसके कारण प्यार के बंधन टूट रहे हैं। समरस जीवन जीने के लिए त्यौहारों का मनाया जाना हम सबके जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है दीपावली, रक्षाबंधन, होली यह सभी त्यौहार मनाने के पीछे अपनों के बीच प्यार का एहसास कराना ही है। ऐसे ही प्यार भरा खुशनुमा त्यौहार है वैलेंटाइन डे। वैलेंटाइन रोम के एक पादरी का नाम था। रोम का एक शक्तिशाली शासक था जिसे यह नागवार गुजरा कि रोम के लोग पारिवारिक कारणों से सेना में जाने से बचते हैं जिस कारण उसने शादी पर प्रतिबंध लगवा दिया। यह बात किसी के गले नहीं उतरी। प्रशासक के सामने कोई कुछ बोल नहीं पाता था। वैलेन्टाइन पादरी को भी यह सब बेतुका लगा। एक दिन एक जोड़ा वैलेन्टाइन के पास शादी की इच्छा से आया। पादरी वैलेन्टाइन ने गोपनीय रूप से उन दोनों की शादी करवा दी। जब शासक को इस बात का पता चला तो उसने पादरी वैलेन्टाइन को कैदकर मौत की सजा सुना दी।

जब वैलेन्टाइन जेल में था तब जो भी उससे मिलने आता उसे गुलाब व अन्य उपहार देकर जाते। 14 फरवरी 269 A.D. के दिन पादरी को मौत की सजा दी गई। मरने से पूर्व पादरी ने प्यार करने वालों के नाम एक खत लिखा। पत्र में उसने लिखा – “वैलेन्टाइन प्यार करने वालों के लिए खुशी-खुशी कुर्बान हुआ है और प्यार को जिंदा रखने की गुहार करता है। तभी से 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे मनाया जाने लगा। यह त्यौहार 7 से 14 फरवरी तक चलता है।

वैलेंटाइन वीक रोज डे से प्रारंभ होता है और हर सप्ताह हर दिन अलग-अलग रूप से मनाया जाता है। इस सप्ताह में कपल्स एक-दूसरे को फूल, चॉकलेट एवं अन्य उपहार देकर वैलेंटाइन वीक मनाते हैं। पहला दिन 7 फरवरी रोज डे कहलाता है। इस दिन अपने पार्टनर को गुलाब देकर लोग अपने प्यार का इजहार करते हैं। लाल गुलाब को प्रेम का प्रतीक माना जाता है। 8 फरवरी प्रपोज डे है, शादी करने वाले जोड़े प्रपोज डे के अवसर पर केक व बुके आदि अपने साथी को देने जाते हैं। 9 फरवरी को चॉकलेट डे के तौर पर मनाया जाता है। चॉकलेट उपहार देकर अपने पार्टनर के साथ सेलिब्रेट करते हैं।

10 फरवरी को टेडी डे मनाया जाता है। यह दिन बचपन को तरोताजा करने का दिन होता है। इस दिन लड़के अपनी प्रेमिका को टेडी गिफ्ट कर लुभाते हैं। 11 फरवरी को प्रॉमिस डे के अवसर पर प्रेमी-प्रेमिका साथ रहने का वादा करते हैं। 12 फरवरी हग डे कहलाता है। कपल्स अपने पार्टनर के साथ हग करके अपनी अहमियत बताते हैं। 13 फरवरी किस डे के रूप में मनाया जाता है। इस दिन पार्टनर अपने रिश्ते को मजबूती प्रदान करते हैं और अंत में 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे मना कर कपल्स क्वालिटी टाइम बिता कर खूबसूरत यादें संजोते हैं। यह सप्ताह का आखिरी दिन होता है।

डॉ. अखिल बंसल, वरिष्ठ पत्रकार
Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 5 =