कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस भाजपा विधायक व बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की सारधा चिटफंड घोटाले में गिरफ्तारी की मांग को लेकर आज कोलकाता में सीबीआइ कार्यालय के सामने प्रदर्शन करेगी। इस दिन शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु के नेतृत्व में तृणमूल का एक प्रतिनिधिदल राजभवन जाकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ को इस बाबत ज्ञापन भी सौंपेगा। तृणमूल ने सारधा चिटफंड घोटाले के मुख्य आरोपित सुदीप्त सेन के पत्र के आधार पर शुभेंदु अधिकारी पर दबाव डालने की रणनीति बनाई है।

गौरतलब है कि सारधा चिटफंड घोटाले में मुख्य आरोपित सुदीप्त सेन ने जेल से कलकत्ता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश प्रकाश श्रीवास्तव को पत्र लिखकर कहा है कि इस घोटाले में शुभेंदु अधिकारी भी शामिल हैं। उन्होंने भी इसका फायदा उठाया है। सियासी विश्लेषकों का कहना है कि भाजपा में शामिल होने के बाद से ही शुभेंदु तृणमूल के खिलाफ लगातार मुखर रहे हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि बंगाल भाजपा की आवाज अभी शुभेंदु ही हैं इसलिए तृणमूल अब उसी आवाज को दबाने की जुगत में है।

सुदीप्त सेन के आरोप से सत्ताधारी दल को एक अच्छा मौका मिल गया है। विश्लेषकों ने यह भी कहा कि सुदीप्त सेन इससे पहले सत्ताधारी दल के कई नेताओं के खिलाफ भी इसी तरह पत्र लिख चुके हैं। सवाल यह है कि जब उनके पिछले पत्रों को गंभीरता से नहीं लिया गया तो इसे कितनी गंभीरता से लिया जाएगा। दरअसल बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के बीच एक-दूसरे के प्रमुख नेताओं पर दबाव बनाने की सियासत शुरू हो गई है।

एक तरफ भाजपा कोयला कांड में तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी व मवेशी तस्करी कांड में तृणमूल के बाहुबली नेता अनुब्रत मंडल से हो रही सीबीआइ पूछताछ को लेकर दबाव बनाने में जुटी हुई है, वहीं दूसरी तरफ तृणमूल ने सारधा चिटफंड घोटाले के मुख्य आरोपित सुदीप्त सेन के पत्र के आधार पर शुभेंदु अधिकारी पर दबाव डालने की रणनीति बनाई है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − one =