फिर याद आई निर्भया …! मनीषा ! हम शर्मिंदा हैं !!

तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : हाथरस की मनीषा बाल्मिकी के साथ हुई पैशाचिकता पर आक्रोश का दावानल अब भी धधक रहा है । पीड़िता के प्रति सहानुभूति और संवेदना जताते हुए जंगल महल के विभिन्न अंचलों में लगातार कैंडल मार्च निकाले जा रहे हैं । धरना प्रदर्शन का सिलसिला भी लगातार जारी है। पीड़िता और परिवार को न्याय दिलाने की मांग पर बुधवार की शाम खड़गपुर के गोलबाजार में कैंडल मार्च निकाला गया।

उत्कल हरिजन समाज की ओर से निकाले गए इस मार्च में सचिव रंजीत बंगारी, युवा शाखा के सचिव सूरज चंद्र नायक और अध्यक्ष हेमंत जाना समेत बड़ी संख्या में समाज के सदस्य शामिल हुए । मार्च में शामिल महिला व पुरुष हाथों में ‘ जस्टिस फॉर मनीषा बाल्मीकि ‘ लिखी तख्तियां लिए हुए थे । दूसरी ओर इसी मुद्दे पर पूर्व मेदिनीपुर जिले के मेचेदा में भी विरोध प्रदर्शन और पथसभा की गई।

राजनैतिक दल एसयूसीआई ( कम्युनिस्ट ) की ओर से आयोजित इस प्रदर्शन और सभा में पार्टी के विभिन्न सहयोगी संगठन शामिल हुए । सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि हाथरस की युवती के साथ हुई बर्बरता ने आठ साल पहले पाशविकता का शिकार हुई निर्भया की याद ताजा कर दी । उन्होंने कहा कि दोषियों को सख्त सजा देने के साथ ही यदि यह सिलसिला नहीं रुका तो राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक आंदोलन छेड़ा जाएगा ।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 1 =