‘ममता छोटी बहन जैसी, लेकिन रिश्ते बनाए रखने के लिए आइना दिखाना जरूरी’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ ने  बंगाल सरकार पर जमकर हमला बोला। जगदीप धनखड़ ने कहा कि राष्ट्रपति और राज्यपाल का काम संविधान की रक्षा करना होता है। इन दोनों पदों की शपथ भी काफी अलग होती है। जगदीप धनखड़ ने कहा कि हमें भारतीय संविधान की प्रस्तावना में यकीन रखना चाहिए लेकिन मैं पिछले 2.5 साल से बतौर पश्चिम बंगाल गवर्नर पीड़ित हूं। कहा जाता है कि बंगाल के राज्यपाल का मुख्यमंत्री से आमना-सामना है। मैं आप सभी से चुप्पी तोड़ने की अपील करता हूं।

दुर्भाग्य से आज देश को भीतर और बाहर से चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। दुनिया का कोई भी देश इस तरह की चुनौतियों का सामना नहीं कर रहा है।  धनखड़ ने कहा कि ममता बनर्जी मेरी छोटी बहन की तरह हैं और 30 साल पहले उन्हें चोट लगने पर मैं उनसे मिलने पश्चिम बंगाल गया था। हालांकि कई बार रिश्तों को सरल और सहज बनाए रखने के लिए छोटी बहन को भी आइना दिखाना जरूरी है। पश्चिम बंगाल में हुई चुनावी हिंसा से कोई इनकार नहीं कर सकता है।

चुनावों के समय जो हुआ वो किसी से छुपा नहीं है। मुझे ये कहने में कोई गुरेज नहीं है कि पश्चिम बंगाल में कोई मीडिया नहीं है। वहां की सीएम से कोई सवाल नहीं पूछ सकता है, सीनियर एडिटर्स को भी ये अधिकार नहीं है कि वो कोई सवाल कर सकें। मीडिया अपना काम नहीं कर पा रहा है और मैं मीडिया से हाथ जोड़कर आग्रह करता हूं कि वो ग्राउंड रियलटी को दिखाएं और ये जमीनी हकीकत इतनी कड़वी है कि गवर्नर होने के नाते मुझ से कहा जाना चाहिए कि मैं अपना काम क्यों नहीं कर पा रहा हूं और राज्य सरकार से सवाल कर रहा हूं या रिपोर्ट क्यों नहीं दे पा रहा हूं।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 6 =