हिंदू नवसंवत्सर 2079 के राजा शनि तो मंत्री होंगे गुरु, जानिए ग्रहों का मंत्रिमंडल कैसा होगा!

वाराणसी । हिंदुओं के इस नववर्ष की शुरूआत हिंदू पंचाग के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के पहले दिन से होती है। वहीं इसी दिन से चैत्र नवरात्रि 2022 की भी शुरुआत होगी।

इस नववर्ष 2079 में ऐसा रहेगा ग्रहों का मंत्रिमंडल :
राजा-शनि, मन्त्री-गुरु, सस्येश-सूर्य, दुर्गेश-बुध, धनेश-शनि, रसेश-मंगल, धान्येश-शुक्र, नीरसेश-शनि, फलेश-बुध, मेघेश-बुध रहेंगे। वहीं संवत्सर का निवास कुम्हार का घर और समय का वाहन घोड़ा है। माना जाता है कि जिस वर्ष समय का वाहन घोड़ा होता है, उस वर्ष तेज गति से वायु, चक्रवात, तूफान, भूकंप भूस्खलन आदि की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा मानसिक बैचेनी भी बढ़ने के साथ ही तेज गति से चलने वाले वाहनों के क्षतिग्रस्त होने की भी संभावना में भी वृद्धि हो जाती है।

हिन्दू पंचांग अनुसार 2 अप्रैल से जब विक्रम नवसंवत्सर 2079 का शुभारंभ होगा, तो उस दिन भी शनिदेव का वार शनिवार ही रहने वाला है। इसमें खास बात यह है कि 100 साल में ऐसा 15वीं बार और 10 साल में दूसरी बार होगा जब हिंदी नववर्ष की शुरुआत शनिवार के दिन से होगी। वर्ष 2021 में शनि का कोई राशि परिवर्तन नहीं हुआ था, परंतु 2022 में शनिदेव अपने स्वामित्व वाली मकर राशि से निकलकर 29 अप्रैल को अपनी अगली राशि कुंभ में करीब ढाई वर्ष के बाद अपना गोचर करेंगे।

इसके अलावा विक्रम संवत्सर 2078 के राजा मंगल थे, जबकि नवसंवत्सर 2079 के राजा शनि होंगे। न्याय प्रिय व कर्मफल दाता शनि देव का प्रभाव यूँ तो ज्योतिष में विशेष महत्वपूर्ण होता है। ऐसे में अब साल 2022 में भी शनि देव का सामान्य से अधिक या यूँ कहें कि सालभर जबरदस्त प्रभाव देखने को मिलने वाला है।

नवसंवत्सर 2079 में ग्रहों का मंत्रिमंडल : जिस प्रकार एक देश को सही तरह से संचालित करने के लिए सरकार या एक राजा की आवश्यकता होती है, ठीक उसी प्रकार ज्योतिष विज्ञान में भी हर वर्ष 9 ग्रहों का भी एक अनोखा मंत्रिमंडल समूचे विश्व को संचालित करने का कार्य करता है। हर देश की सरकार अपने देश को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करता है और एक अवधि के बाद सरकार के मंत्रिमंडल में भी बदलाव किये जाते हैं।

उदाहरण के लिए अगर भारत देश की बात करें तो, यहाँ हर 5 वर्ष में लोकसभा चुनाव प्रक्रिया होती है। इन चुनावों में ही जो भी दल विजय प्राप्त करता हैं, उस राजनीतिक दल को देश चलाने का अवसर मिलता है। जिसकी अवधि 5 वर्ष की होती है। विजयी होने के बाद सबसे पहला काम उस राजनीतिक दल का अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करना होता है। बिलकुल इसी तरह शास्त्रों में भी ग्रहों के मंत्रिमंडल की व्यवस्था हर वर्ष नव संवत्सर के साथ ही की जाती है और प्रतिवर्ष ये ग्रहों का मंत्रिमंडल बदलता रहता है।

चूँकि 2 अप्रैल 2022 से ‘नल’ नामक नवसंवत्सर 2079 का आरंभ हो रहा है, हम इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि इस नए हिन्दू वर्ष में ग्रहों का मंत्रिमंडल आखिर कैसा रहने वाला है। नल नामक संवत्सर के प्रारंभ होते ही निम्न मंत्रिमंडल अपना-अपना कार्यभार लेकर देश का संचालन प्रारंभ करेगा।

1. राजा– शनि
नवसंवत्सर 2079 में ग्रहों का राजा एक देश के प्रधानमंत्री की भांति ही अपनी भूमिका निभाता है। इस वर्ष के राजा शनि देव होंगे, जो इस पुरे ही साल मंत्रिमंडल के प्रमुख होंगे। ऐसे में शनि के राजा होने से विश्वस्तर पर युद्ध, दंगों, मारपीट, महंगाई का भय रहेगा। कई देशों की जनता अपनी ही सरकारों के खिलाफ विद्रोह कर सकती हैं। लोग कई प्रकार के रोग व महामारी से पीड़ित रहेंगे। जनहानि व अकाल जैसी परिस्थितियां सामान्य मानी जाएंगी। भारत के भी कई राज्य आतंकी घटनाओं से परेशान रहेंगे। कई देशों में पलायन आदि की स्थिति उत्पन्न होगी।

2. मंत्री – : गुरु (बृहस्पति)
जिस प्रकार देश की सरकार में द्वितीय स्थान गृहमंत्री को दिया जाता है, उसी प्रकार ग्रहों के मंत्री मंडल में भी यह भूमिका मंत्री की होती है। ऐसे में नवीन संवत्सर 2079 में गुरु बृहस्पति मंत्री की भूमिका निभाएंगे। गुरु के मंत्री होने से सभी प्रकार के अनाजों जैसे : गेहूं, चावल, धान्य, मक्की आदि का उत्पादन पर्याप्त मात्रा में हो सकेगा। वर्षा भी पर्याप्त मात्रा में होगी। देश की सरकार कई लोक कल्याणकारी योजनाओं पर तेजी से काम करती दिखाई देगी। लोगों में धार्मिक विश्वास बढ़ेगा। इसके अलावा ईख, गुड़, दूध, तेल व अन्य रसदार पदार्थों में भी वृद्धि देखी जाएगी।

अच्छी बारिश के बनेंगे योग : ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस नवसंवत्सर 2079 में अच्छी बारिश के योग दिख रहे हैं, जिसके चलते फसलों के लिहाज से इस दौरान अच्छी बारिश होगी।

3. धनेश – वित्त मंत्री : शनि
देश के अनुकूल संचालन हेतु धन की व्यवस्था करना जिस प्रकार वित्तमंत्री की जिम्मेदारी होती है। उसी प्रकार ग्रहों के मंत्रिमंडल में यह कार्य धनेश अर्थात कोशपति को दिया जाता है। ऐसे में नवीन संवत्सर 2079 में धनेश का यह पद भी शनि के पास ही होगा। इससे व्यापारी वर्ग में धन की कमी देखी जाएगी। देश का व्यापारी हानि होने से असंतुष्ट होगा। कई बड़े कारोबारी व प्रसिद्ध लोगों को भी रोग एवं शोक परेशान करता रहेगा। आयात-निर्यात से जुड़े जातक प्रशासनिक कुटिल नीतियों के कारण काफी परेशान रहेंगे। विश्वभर के कृषि वर्ग में भी प्राकृतिक प्रकोपों के कारण हानि संभव है।

4. दुर्गेश – सेनापति : बुध
इस नव संवत्सर 2079 में दुर्गेश अर्थात ग्रहों के मंत्री मंडल के सेनापति बुध होंगे। बुध के सम ग्रह होने के कारण जनता को भी मिश्रित परिस्थितियों से दो-चार होना पड़ेगा। जनता सामान्य भौतिक सुखों का उपभोग करेंगी। धनवान व बड़े व्यापारियों को सरकार से सहयोग मिलेगा। इस वर्ष शत्रु देशों द्वारा देश की सीमाओं पर अतिक्रमण भी सामान्य से कम ही देखने को मिलेगा। परंतु देश की अर्थव्यवस्था काफी कमजोर होगी।

5. धान्येश – कृषि/खाद्य : शुक्र
नवीन वर्ष में धान्येश शुक्र होंगे। ऐसे में शुक्र के धान्येश होने से शीतकालीन फसलों जैसे : जौं, मक्की, गन्ना, गेहूं, आदि का उत्पादन अपेक्षा से काफी कम रहेगा। कई देशों में तूफ़ान, प्राकृतिक प्रकोप, असामान्य वर्षा आदि के कारण भी काफी फसलों को नुकसान पहुंचेगा। जिसके परिणामस्वरूप दालों, मसलों, उपभोग्य वस्तुओं, सब्जियों, पशुचारा आदि के भाव में तेजी देखी जाएगी। देश में भी रोजगार दर में वृद्धि होगी। हालांकि व्यापारियों को लाभ मिलेगा।

शनि राशि परिवर्तन : 29 अप्रैल को शनि के इस बड़े राशि परिवर्तन यानि कुंभ राशि में प्रवेश के साथ ही मकर, कुंभ और मीन राशि पर शनि की साढ़ेसाती के अलग-अलग चरण शुरू हो जाएंगे। इस समय कुंभ राशि पर साढ़ेसाती का दूसरा, मकर पर तीसरा और मीन राशि पर पहला चरण शुरू हो जाएगा।

जबकि कर्क व वृश्चिक राशि के जातकों पर शनि की ढैय्या शुरु हो जाएगी। शनि के राशि परिवर्तन होने से धनु राशि से साढ़ेसाती और मिथुन व तुला राशि वालों पर शनि की ढैय्या खत्म हो जाएगी। जिसके चलते इनके जीवन में परेशानियां काफी हद तक कम हो जाएंगी।

पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री

जोतिर्विद वास्तु दैवज्ञ
पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री
9993874848

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three + 18 =