नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी सरकारों से मांग करते हुए कहा कि देश के हर बच्चे के लिए शानदार मुफ्त शिक्षा, हर व्यक्ति के लिए मुफ्त इलाज, हर परिवार के लिए 300 यूनिट मुफ्त बिजली और बेरोजगारों के लिए बेरोजगारी भत्ते की व्यवस्था की जाए। केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन कर आज कहा कि पिछले कुछ दिनों से देशभर में एक ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि गरीबों, आम लोगों और मध्यम वर्ग को केंद्र सरकार और राज्य सरकारें जो सुविधाएं देती हैं, वो सुविधाएं बंद की जाएं। उससे सरकारों को घाटा हो रहा है। कोई इन्हें फ्री-बी कह रहा है, तो कोई इन्हें फ्री की रेवड़ी कह रहा है।

इस तरह, अलग-अलग शब्दों का इस्तेमाल करके पूरे देश के अंदर महौल बनाया जा रहा है कि सरकारों को बहुत घाटा हो रहा है। यह माहौल बनाया जा रहा है कि देशभर में बच्चों को जो फ्री में शिक्षा दी जाती है, वो फ्री शिक्षा बंद की जाएं। देश आजादी वर्षगांठ पर जब यह सुनते हैं, तो दिल को बहुत तकलीफ होती है। वैसे तो 75वें साल के अंदर शिक्षा का ऐसा सिस्टम बन जाना चाहिए था कि पूरे देश में हमारे बच्चों को अच्छी और मुफ्त शिक्षा मिलती। लेकिन आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अंदर हम यह माहौल बना रहे हैं कि हमारे देश के बच्चों को अच्छी और फ्री की शिक्षा देना फ्री की रेवड़ी है और इससे सरकारों को घाटा हो रहा है, तो इससे बुरी बात नहीं हो सकती।

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि इस वक्त हमें पूरी प्लानिंग करनी चाहिए थी कि 75 साल में जो कमी रह गई थी, उस कमी को हम सारे मिलकर युद्ध स्तर पर पूरा करेंगे। हम सारे मिलकर ऐसा प्लान बनाएंगे कि अगले पांच साल के अंदर पूरे देश में शानदार सरकारी स्कूल बना देंगे और बच्चों को अच्छी शिक्षा देंगे। तब आजादी की 75वीं वर्षगांठ सही मायने में मनाई जाती। लेकिन हम क्या कर रहे हैं? हम मिलकर ऐसा महौल बना रहे हैं कि अब सरकारी स्कूलों के अंदर बच्चों को फ्री शिक्षा बंद की जाएगी।

केजरीवाल ने कहा कि देशभर में ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि सारे सरकारी अस्पतालों के अंदर फ्री चिकित्सा बंद की जाएगी। या तो सरकारी अस्पतालों को बंद कर दिया जाएगा या फिर सरकारी अस्पतालों के अंदर अब पैसे लेकर इलाज किया जाएगा। सरकारी अस्पतालों के अंदर दवाई, टेस्ट और सर्जरी समेत हर चीज के पैसे लिए जाएंगे। जिसके पास पैसे है, वो अपना इलाज कराए और जिसके पास पैसे नहीं है, वो जहां मर्जी जाए। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर इस किस्म की बात की जा रही है। ऐसा माहौल बनाया जा रहा है, जैसे आम लोगों को फ्री बिजली देना गुनाह है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − twelve =