Breaking : बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को कहा अलविदा

कोलकाता : पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को अलविदा कह दिया है। शनिवार को फेसबुक पर एक पोस्ट करते हुए उन्होंने यह ऐलान किया। उन्होंने कहा कि वह राजनीति से बाहर रहकर भी लोगों की सेवा कर सकते हैं। इसके लिए राजनीति की ही जरूरत नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह किसी अन्य पार्टी में नहीं जा रहे हैं। उन्होंने राजनीति छोड़ने का ऐलान करते हुए कहा, अलविदा।

गौरतलब हो कि पिछले कुछ दिनों से उनके फेसबुक पोस्ट से तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही थी। पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने आखिरकार शनिवार को इसकी घोषणा कर दी। वह राजनीति से संन्यास ले रहे हैं। उन्होंने फेसबुक पर लिखा चलो चलते हैं, अलविदा।

मंत्रालय गंवाने के एक महीने के भीतर ही उन्होंने राजनीति से इस्तीफा दे दिया और सांसद पद से इस्तीफा दे दिया। आसनसोल से भाजपा सांसद ने इस बात को नहीं छिपाया कि सीधे तौर पर मंत्रालय जाने के कारण उन्होंने यह फैसला लिया। उन्होंने बहुत स्पष्ट कर दिया कि यही उनके निर्णय का कारण था।

मालूम हो कि मोदी कैबिनेट के विस्तार के बाद से ही बाबुल सुप्रियो जिस प्रकार से एक के बाद एक सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे थे उसे लेकर तमाम तरह की अटकलें शुरू हो गई थी। मोदी कैबिनेट के विस्तार के बाद मंत्री पद हाथ से जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने कहा था कि ‘मुझे इस्तीफा देने के लिए बोला गया, मैंने दिया।

पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रीयो ने कहा था कि मुझे बुरा लग रहा है। बता दें कि साल 2014 में मोदी सरकार आने के बाद से बाबुल सुप्रीयो लगातार केंद्रीय राज्यमंत्री रहे। 2019 में भी उन्हें केंद्रीय राज्य मंत्री बनाया गया।

लेकिन इस बार मोदी कैबिनेट विस्तार से बाबुल सुप्रियो को बाहर कर दिया गया था। हालांकि पार्टी आलाकमान के इस फैसले पर अफसोस जताया था। बाबुल का मानना था कि उनपर भ्रष्टाचार के कोई दाग नहीं थे। हालांकि उन्हें मंत्रालय छोड़ना पड़ा।

मंत्री पद हाथ से जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने फेसबुक पर लिखा था मुझे कैबिनेट सदस्य के रूप में देश की सेवा करने का मौका देने के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देना चाहता हूं। मैं बहुत खुश हूं कि मैं बिना किसी भ्रष्टाचार के कैबिनेट छोड़ रहा हूं। बंगाल से मंत्री बनने वालों को बधाई। मुझे अपने लिए बुरा लग रहा है लेकिन मैं उनके लिए खुश हूं।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + 18 =