डॉ. आर.बी. दास की कलम से…

कभी तानों में कटेगी, कभी तारीफों में, ये जिंदगी है यारो, पल पल घटेगी !!

डॉ. आर.बी. दास की कविता : नारी

।।नारी।। डॉ. आर.बी. दास जब मैंने जन्म लिया वहां “एक नारी” थी, जिसने मुझे थाम

डॉ. आर. बी. दास की कविता : औरों के लिए जो जीता है

।।औरों के लिए जो जीता है।। डॉ. आर. बी. दास लगा सको तो बाग लगाओ,

डॉ. आर.बी. दास की कविता : देता हूं मैं

।।देता हूं मैं।। डॉ. आर.बी. दास सब को साथ लेकर चलने की चाह में, बहुत

डॉ. आर.बी. दास की कविता : आदमी भी कितना नादान है

।।आदमी भी कितना नादान है।। डॉ. आर.बी. दास आदमी भी कितना नादान है, मंदिर में

डॉ. आर.बी. दास की कविता : अजीब क्यों होता है

।।अजीब क्यों होता है।। डॉ. आर.बी. दास ये आज कल अजीब क्यों होता है, जवाब

डॉ. आर.बी. दास की कविता : आदत डालो

।।आदत डालो।। डॉ. आर.बी. दास सुनने की आदत डालो, शोर करने वालों की कमी नहीं

डॉ. आर.बी. दास की कविता : कितना कुछ सीखते हैं हम

।।कितना कुछ सीखते हैं हम।। डॉ. आर.बी. दास कितना कुछ सीखते हैं हम अपने ही

डॉ. आर.बी. दास की कविता : बदलना पड़ता है खुद को

।।बदलना पड़ता है खुद को।। डॉ. आर.बी. दास की कविता पहले ऐसा न था जो

डॉ. आर.बी. दास की कविता : मेरी जिंदगी

।।मेरी जिंदगी।। डॉ. आर.बी. दास थोड़ा थक सा जाता हूं अब मैं… इसलिए, दूर निकालना