जिनसे उम्मीद थी, खाइयाँ पाटते
रह गए वो वतन छाँटते-काटते
बाँटते जातियों में किसी वर्ग को
और तलवे किसी के रहे चाटते

-डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here