बैंकों में राजभाषा अधिकारी के चयन की परीक्षा में फिर पश्चिम बंगाल की लड़कियों ने बाजी मारी

विनय शुक्ला, नैहाटी। राष्ट्रीयकृत बैंकों में लगभग हर वर्ष राजभाषा अधिकारी के पदों की भर्ती आती है। इन भर्तियों की चयन परीक्षा IBPS अयोजित करती है। इस परीक्षा के कुल तीन चरण होते हैं। पहले चरण में स्क्रीनिंग होती है जिसमें सामान्य ज्ञान, बैंकिंग ज्ञान, तर्कशक्ति, अंग्रेजी की कम्प्यूटर आधारित परीक्षा होती है। दूसरे चरण में हिंदी, राजभाषा ज्ञान आदि की परीक्षा होती है। अंतिम चरण में साक्षात्कार और फिर वरीयता सूची।

ग्रामीण और कोलकाता के उप नगरीय अंचलों के युवा वर्ग में राजभाषा के क्षेत्र में रोजगार के अवसर और उसके लिये समुचित अध्ययन की प्रक्रिया और अपने यूट्यूब के माध्यम से निःशुल्क प्रशिक्षण उपलब्ध करवाने वाली संस्थान भाषा शिक्षण के संचालक राजेश शुक्ल ने बताया कि इस वर्ष इस परीक्षा में राजभाषा अधिकारी के पद की कुल 25 रिक्तियाँ थीं। भाषा शिक्षण से प्रत्यक्ष जुड़े अभ्यर्थियों में से आठ अभ्यर्थियों ने इस परीक्षा मे सफलता पाई है जिसमें से पांच लड़कियाँ हैं।

चयनित लड़कियों में से नैहाटी शिल्पांचल क्षेत्र में हाजीनगर से लेकर जगदल तक के अधिकांश अभ्यर्थी हैं। सफल अभ्यर्थियों में अंकिता श्रीवास्तव – बैंक ऑफ बड़ौदा के लिये चयनित है जो बर्नपूर, पश्चिम वर्द्धमान की हैं। बिनीता साव- सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के लिये चयनित हुई है जो हाजीनगर, उत्तर २४ परगना की हैं। नंदिनी साव – बैंक ऑफ बड़ौदा के लिये चयनित हुई हैं जो कांकिनाड़ा, उत्तर २४ परगना की हैं। जिनका चयन भारतीय वायु सेना में वरिष्ठ अनुवाद अधिकारी पद के लिये भी हुआ है।

नेहा साव- बैंक ऑफ बड़ौदा के लिये चयनित हुई हैं जो ग्वालाफाटक, नैहाटी, उत्तर २४ परगना की हैं। अभय चौधरी- यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के लिये चयनित हुए हैं जो संतोषपुर, कोलकाता के हैं। पूजा चौधरी – सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के लिये चयनित हुई हैं जो बेसब्रिज, कोलकाता की हैं और नंदिनी साव- बैंक ऑफ बड़ौदा के लिये चयनित हुई हैं जो गौरीपुर, नैहाटी, उत्तर २४ परगना की हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *