कोलकाता। सीपीआईएम के पोलित ब्यूरो के सदस्य प्रकाश करात (Prakash Karat) ने कहा कि बीजेपी (BJP) और आरएसएस (RSS) से निपटने के लिए विपक्षी दलों को इन ताकतों के खिलाफ लगातार वैचारिक एवं राजनीतिक संघर्ष करना होगा। पश्चिम बंगाल इकाई के मुखपत्र ‘गणशक्ति’ के 57वें स्थापना दिवस पर बर्दवान के संस्कृति लोक मंच में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। प्रकाश करात ने कहा कि वाम दल अभी राष्ट्रीय स्तर पर एक मजबूत ताकत नहीं हो सकते, लेकिन वे ही भाजपा और आरएसएस के खिलाफ वैचारिक लड़ाई शुरू कर सकते हैं।

इसके साथ ही विपक्षी दलों के लिए इसे एक वैकल्पिक मंच बना सकते हैं। करात ने कहा, ‘फिलहाल हम चुनाव से पहले गठजोड़ के बारे में सोच रहे हैं। दूसरे राज्यों में जो पार्टियां सत्तारूढ पार्टी के विरोघ में खड़ी हैं उन्हें हमें एक साथ लेकर चलाना होगा। हमें बीजेपी और आरएसएस के ताकतों से लड़ने के लिए लगातार कोशिश करनी होगी। देश में कई क्षेत्रीय पार्टियां हैं जो सीपीआईएम के लिए मजबूत सहयोगी साबित हो सकती है।

हमें सभी राजनीतिक दलों को एकजुट कर भाजपा और आरएसएस के खिलाफ लगातार वैचारिक एवं राजनीतिक संघर्ष करना होगा।” सीपीआईएम पोलित ब्यूरो के सदस्य प्रकाश करात ने आगे कहा, ‘आरएसएस और भाजपा, दोनों ही भारत के उत्तरी और पश्चिमी हिस्सों में लोगों के एक बड़े हिस्से में अपहमें नी पैठ बनाने में सफल रहे हैं। इसके चलते भाजपा ने उत्तर प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनावों में आसानी से जीत हासिल की है।

दोनों राज्यों में सत्ता विरोधी मजबूत लहर होने के दावे किये जा रहे थे, फिर भी वहां बीजेपी जीत गई। ऐसे में हमें सत्ता विरोधी लहर को इस्तेमाल कर अपने पक्ष में कर सूमचे विपक्ष को मजबूत बनाना होगा।’ सीपीआईएम नेता प्रकाश करात ने कहा, ‘हमें आरएसएस से लड़ने के लिए उन्हीं का रास्ता अपनाना होगा।

जिस तरह आरएसएस अपनी शाखाओं के जरिये समाज में चौबीसों घंटे सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षिणिक स्तर पर कार्य करती है, ठीक उसी तरह आपको इस तरह के संगठन बनाने होंगे। इसके साथ ही अपनी लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष व वामपंथी विचारधारा तथा दृष्टिकोण को लोगों के बीच रखना होगा। तभी हम बीजेपी और आरएसएस से लड़ पाएंगे।’ उन्होंने आगे कहा भारत में आज हमारे पास एक दक्षिणपंथी सरकार है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 + 4 =