कोलकाता । जनजातीय समुदाय की मातृभाषा संथाली शिक्षा व्यवस्था में भेदभाव को लेकर बुधवार को विरोध प्रदर्शन शुरू हुए हैं। हजारों की संख्या में जनजातीय समुदाय के लोगों ने पश्चिम मेदिनीपुर, झाड़ग्राम, पुरुलिया और बांकुड़ा में सड़कों पर उतर कर विरोध प्रदर्शन शुरू किया है। भारत जकात माझी परगना महल के आह्वान पर 12 घंटे के लिए आहुत आंदोलन की वजह से चारों जिले में फिलहाल यातायात व्यवस्था लगभग पूरी तरह से बाधित हो गई है। बाजार दुकान बंद हैं और सड़कों पर गाड़ियों की आवाजाही रोक दी गई हैं। बुधवार सुबह 6:00 बजे से ही इनका आंदोलन शुरू हुआ है जो शाम 6:00 बजे तक चलने वाला है।

विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों की मांग है कि संथाली भाषा के लिए जनजातीय समुदाय बहुलता वाले स्कूलों में स्थाई शिक्षकों की नियुक्ति हो, वॉलिंटियर्स शिक्षकों को पार्श्व शिक्षक के तौर पर नियुक्त किया जाए, प्रत्येक जिले में संथाली माध्यम के कॉलेजों की स्थापना हो, संथाली स्कूलों में विषय के आधार पर शिक्षकों की नियुक्ति और सटीक समय पर पाठ्य पुस्तकों का वितरण हो, इसके अलावा साधु राम चंद्र मुर्मू विश्वविद्यालय में अविलंब संथाली माध्यम में स्नातकोत्तर डिग्री कोर्स चालू करने की मांग की जा रही है। इसी विश्वविद्यालय में संथाली नृत्य और गीत को शुरू करने की भी मांग की गई है।

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे रायसेन हांसदा ने कहा कि वर्ष 2008 से संथाली माध्यम में पठन-पाठन की शुरुआत हुई है लेकिन आज तक कोई पृथक संथाली शिक्षा बोर्ड नहीं है। कोई इंफ्रास्ट्रक्चर भी नहीं है। कहीं स्कूल संथाली भाषा को समर्पित नहीं है। कई जगहों पर शिक्षक नहीं हैं। इसीलिए राज्य भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं ताकि सरकार हमारी मांगों को पूरा कर सकें। एक और नेता विप्लव सोरेन ने कहा कि हमने अपनी मांगों को लेकर कई बार प्रशासन को पत्र लिखा। यहां तक कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी अपना ज्ञापन सौंपा है लेकिन कोई लाभ नहीं हो रहा। केवल बड़ी-बड़ी बातें की जाती हैं लेकिन हमारी बेहतरी के लिए जमीन पर सकारात्मक कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। इसलिए आंदोलन का रास्ता अख्तियार करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि अगर मांगे पूरी नहीं हुईं तो आने वाले समय में और भी व्यापक आंदोलन होगा।

संथाली संगठन की ओर से 12 घंटे का चक्का जाम, यात्री परेशान

मालदा । भारत जकात मांझी परगना महल कमेटी की ओर से प्रदेश भर में 12 घंटे चक्का जाम का कार्यक्रम किया गया। भारत जकात माझी महल की पश्चिम बंगाल राज्य कमेटी के आह्वान पर मालदा जिले के हबीबपुर थाना अंतर्गत मालदा के नालागोला स्टेट रोड केंदपुकुर क्षेत्र में इस दिन जाम लगा रहा। इस दिन तीर-धनुष के साथ मादल बजाकर चक्का जाम का कार्यक्रम किया गया। भारत जकात मांझी परगना महल की पश्चिम बंगाल राज्य कमेटी की ओर से समर्थकों ने अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी। भारत जकात मांझी परगना समिति की पश्चिम बंगाल राज्य समिति के उपाध्यक्ष बापी सोरेन ने इस दिन कार्यक्रम का नेतृत्व करते हुए उनकी विभिन्न मांगों पर प्रकाश डाला।

कहा कि राज्य भर में फर्जी एसटी प्रमाणपत्र तुरंत रद्द किए जाए, प्रधानमंत्री आवास योजना से वंचित होने के साथ ही भारत मांझी परगना महल, पश्चिम बंगाल राज्य समिति के सदस्यों ने विभिन्न मांगों को लेकर सुबह करीब 11 बजे मालदा नालागोला स्टेट रोड को जाम कर धरना देना शुरू कर दिया, उनका कार्यक्रम शाम छह बजे तक जारी रहा। सड़क अवरोध के चलते मालदा-नालगोला स्टेट हाईवे के केंडापुकुर इलाके में ट्रैफिक ठप होने से यात्री परेशान रहे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen − fifteen =