गुवाहाटी। असम अधिकारियों ने बताया कि असम के गोलपारा जिले के आजाद नगर इलाके में भूस्खलन होने से एक मकान ढह गया जिससे दो बच्चों की मौत हो गई जबकि दीमा हसाओ तथा उदलगुरी में बाढ़ के पानी में डूबने से दो लोगों की मौत हो गई। राज्य में इस साल बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं में मारे गए लोगों की संख्या बढ़कर 46 हो गई है। मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मेघालय, असम, पश्चिम बंगाल का उप-हिमालयी क्षेत्र और सिक्किम में अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुई तथा नगालैंड तथा त्रिपुरा में भारी बारिश हुई।

मौसम वैज्ञानिकों ने अगले पांच दिन में उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम से सटे पूर्वोत्तर राज्यों में भारी से बहुत भारी बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया है। मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून के अगले दो से तीन दिन में पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड और ओडिशा में आगे बढ़ने की संभावना है। बारिश संबंधी घटनाओं में गुवाहाटी के नूनमती इलाके में तीन लोग घायल हो गए।

शहर भर में कई स्थानों पर भूस्खलन हुए थे। खारगुली क्षेत्र के जॉयपुर, बोंडा कॉलोनी, दक्षिण सरानिया, गीतानगर के अमायापुर सहित कई इलाकों में मलबे के ढेर के कारण सड़कें जाम हो गईं। अधिकारियों ने बताया कि असम के कम से कम 18 जिलों में भारी बारिश हो रही है और कामरूप, नलबाड़ी एवं बारपेटा जिलों के कई इलाकों में पानी भर गया है। इन जिलों में बाढ़ से करीब 75 हजार लोग प्रभावित हुए हैं। जिला प्रशासन ने प्रभावित लोगों की मदद के लिए सात शिविर और नौ राहत वितरण केंद्र खोले हैं।

अधिकारियों ने बताया कि ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है, जबकि मानस नदी कुछ स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। इस बीच, भारी वर्षा के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग-6 पर हुए भूस्खलन के बाद बृहस्पतिवार को त्रिपुरा का देश के बाकी हिस्सों से संपर्क टूट गया। त्रिपुरा में मूसलाधार बारिश के कारण पिछले एक महीने में कई ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 2 =