नक्शा बनाने की अपने दादा सरयू मिस्त्री के परम्परा को आगे बढ़ा रही ई० स्मृति

राजकुमार गुप्त, कोलकाता : बड़ा मिस्त्री के नाम से प्रसिद्ध पतौना के स्व० सरयू मिस्त्री को जिले में भला कौन नहीं जानता है। जमुई के 80% पुराने घरों का नक्शा तो उन्होंने ने ही तो बनाया था। आज उन्ही के नक्शे कदम पर चलती दिखाई पड़ रही उनकी पोती और ई० आई पी गुप्ता की बेटी ई० स्मृति गुप्ता। स्मृति गुप्ता पटना के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एनआईटी) से आर्किटेक्चर की पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने पापा ई आई पी गुप्ता की कम्पनी में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर बन पूरे देश में फैले कंपनी के डिजाइनिंग और प्लानिंग के काम को देख रही है। बताते चलें कि अखिल भारतीय पान महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष ई० आई पी गुप्ता खुद सरयू बाबू ग्रुप ऑफ कम्पनीज के चेयरमैन है और इनकी कम्पनी की शाखाएं पूरे देश में फैली है।

वैसे ई० स्मृति गुप्ता ने अपने दादा के नाम पर “सरयू बाबू दि आर्किटेक्चर एंड इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड नाम से खुद के कंपनी की मालकिन भी है। हाल के दिनों में स्मृति ने जमूई में कुछ घरों का आर्किटेक्चरल डिज़ाइन (नक्शा) बनाई है जो एकदम अलग है।
अपने पिता और दादा की खातिर वो जमूई के अपने रंग फैक्ट्री में अपनी कंपनी की शाखा भी खोलने जा रही है। बताते चलें कि स्मृति गुप्ता ई० आई पी गुप्ता की मंझली बेटी है, जबकि उनकी बड़ी बेटी डॉ० संध्या गुप्ता अपने एमबीबीएस की पढ़ाई कोलकाता से पास करने के बाद हाल ही में बांका, बिहार में मेडिकल अफसर के रूप में अपना योगदान दिया है। ई० आईपी गुप्ता की तीसरी बेटी साक्षी गुप्ता पटना के एनआईटी में सिविल इंजीनियरिंग तथा एक मात्र पुत्र कंप्यूटर इंजिनीरिंग की पढ़ाई कर रहा है तो सबसे छोटी बेटी परिधि गुप्ता महज 12 वर्ष की है। ई० स्मृति गुप्ता जमुई के राजमिस्त्रियों की लाड़ली बेटी बनने जा रही है क्योंकि उसे अपने राजमिस्त्री दादा स्व० सरयू मिस्त्री के नाम को और रौशन जो करना है।

*बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ*

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × two =