relationship

कोलकाता। एक समय के बाद हर रिश्ते में कुछ बदलाव आते हैं। सभी रिश्ते हमेशा एक जैसे नहीं रहते हैं। कुछ बदलाव अच्छी लगते हैं, लेकिन अमूमन बदलाव हमें समझौते की ओर ही ले जाते हैं ताकि रिश्ता टूटने ना पाए। शादी का रिश्ता भी ऐसी ही सीख देता है। नई-नई शादी में पति-पत्नी दोनों ही उत्साहित होते हैं और रोमांस से अपनी शादी को खुशियों से भर देते हैं। लेकिन शादी के पांच साल बाद ऐसे कई बदलाव आ जाते हैं जो शादी के मायने ही बदलकर रख देते हैं। अगर आपकी भी शादी को पांच साल हो गए हैं या जल्द ही होने वाले हैं तो आगे बताई जा रही बातें आपके काम की हैं।

हनीमून पीरियड हुआ खत्म : शादी का पहला साल हनीमून पीरियड जैसा होता है। अपने अपने आपास सब कुछ बहुत अच्छा दिखाई देता है। लेकिन जैसे-जैसे पहला साल बीतता है हम इस हनीमून पीरियड से बाहर आने लगते हैं और असल जिंदगी को समझते हैं। लेकिन जो लोग इस दौर से बाहर नहीं आना चाहते उनकी शादी खतरे में पड़ने की कगार पर आ जाती है।

दूसरा साल बेहद मुश्किल : शादी के दूसरे साल में पति-पत्नी एक दूसरे के स्वभाव और आदतों को बखूबी जान चुके होते हैं। अच्छी आदतें तो फिर भी ठीक हैं लेकिन बुरी आदतें आंखों में अधिकी खटकती हैं। जिसके कारण छोटे-छोटे झगड़े अक्सर होते रहते हैं। इसके अलावा आर्थिक और मानसिक परेशानिया और अगर दूसरे साला तक बेबी भी प्लान किया जाए तो बढ़ती जिम्मेदारियों में रोमांस ना के बराबर रह जाता है।

बातचीत की कमी : शादी के दो से तीन साल के बाद पति-पत्नी अपनी जिम्मेदारियों में इतना डूब जाते हैं कि उनके पास एक दूसरे से बात करने तक का समय नहीं होता है। यह दिक्कत उन कपल्स के साथ सबसे अधिक होती है जहां पति और पत्नी दोनों ही वर्किंग हों, और घर-ऑफिस की भाग दौड़ में वे अपने रिश्ते को जाने अनजाने में पीछे छोड़ देते हैं।

पहले जैसा प्यार नहीं : शादी के पांच साल बाद प्यार खत्म हो जाता है, यह सच नहीं है। लेकिन हां प्यार पहले जैसा नहीं होता, यह एक कड़वा सच है। पहले की तरह रोमांटिक डेट, सरप्राइज देना, प्यार भरी बातें कहना, कई घंटों तक बातें करते रहना, यह सब कम हो जाता है। और धीरे-धीरे मन में यह डर भी बैठ जाता है कि ‘प्यार खत्म हो गया’।

सॉरी कोई एक ही कहता है : प्यारा ही या शादी, अगर लंबे समय तक चल रहा है तो दोनों में से कोई एक ऐसा जरूर होगा जो झगड़े को सुलझाने के लिए अपनी गलती ना होते हुए भी ‘सॉरी’ कहने को तैयार रहता है। सॉरी कहने से दोनों में बना विवाद ठंडा पड़ जाएगा और झगड़ा खत्म होगा, इसी कारण से कोई एक ऐसा होता है जो 90 फीसदी झगड़ों में माफी मांगने को तैयार हो जाता है। और वह इंसान आगे भी यही करता रहेगा, यह ऐसे रिश्ते की सच्चाई है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 5 =