असीम है संवेदना और सहानुभूति का दायरा

तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : अपने आस – पास के परिवेश के प्रति संवेदनशील होना ही आदमी को आदमी बनाता है। संवेदना और सहानुभूति का दायरा सचमुच असीम है। जंगल महल के झाड़ ग्राम जिलांतर्गत सांकराइल के कुंतीमारो गांव में आयोजित कंबल वितरण समारोह में यह बात वक्ताओं ने कही । सेंट जॉन एंबुलेंस इंडिया ब्रिगेड विंग खड़गपुर एंबुलेंस डिवीज़न की ओर से आयोजित इस कंबल वितरण समारोह के आयोजन में हरीश महतो , बसंत महतो और परीक्षित महतो की भी सक्रिय सहभागिता रही।

आयोजकों की ओर से सेंट जॉन एंबुलेंस इंडिया ब्रिगेड विंग खड़गपुर एंबुलेंस डिवीजन के डिवीजनल कमांडर असीम नाथ ने गरिमामयी उपस्थिति के लिए खड़गपुर के एसीएमएस डॉ अरविंद कुमार जायसवाल , डिपुटी सीवीओ वीरेंद्र कुमार, कमल घोष, समीर गुहा, संजीव गुहा , सुलेखा मुखर्जी, सुशांत यादव तथा बनानी दास के प्रति आभार जताया गया। आदिवासी बहुल गांव में कंबल वितरण के औचित्य पर बोलते हुए वक्ताओं ने कहा कि जंगल महल के इस पिछड़े क्षेत्र में इसकी निहायत ही उपयोगिता है । ऐसे सद्प्रयासों की इस बात के लिए सराहना की जानी चाहिए कि दी गई चीज छोटी हो या बड़ी , लेकिन वो किसी की संवेदनशीलता और सहानुभूति का प्रतीक है ।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × one =