Vlcsnap 2023 10 11 15h55m01s68

Durga Puja 2023 : महानंदा नदी से मिला था चांदी का त्रिशूल, खुद ही दुर्गा मुर्ति बनाकर शुरू की पूजा

मालदा: देवी का स्वप्न पाकर ओल्ड मालदा के शील परिवार ने अपने हाथों से दुर्गा की मूर्ति बनाई और उसकी पूजा की। एक दशक पहले शील परिवार के सदस्य मिथुन शील ने महानंदा नदी से चांदी का त्रिशूल पाया था। और यहीं से देवी दुर्गा की पूजा शुरू हुई। जो आज भी धूमधाम से चल रहा है। शील परिवार ओल्ड मालदा ब्लॉक के मुचिया ग्राम पंचायत के नजरपुर इलाके में रहता है। मिथुन शील वर्तमान में कुम्हार के काम से जुड़े हैं। उनके द्वारा निर्मित देवी दुर्गा की पूजा शील परिवार में की जाती है। इस दुर्गा पूजा को लेकर तरह-तरह की कहानियां बताई जाती हैं।

बहुत समय पहले महानंदा नदी में स्नान करते समय शील परिवार के सदस्य मिथुन शील को सवा  हाथ का चांदी का त्रिशूल मिला था। फिर देवी का स्वप्न आने के बाद दुर्गा पूजा की शुरुआत होती है। मिथुनबाबू और उनके परिवार ने अपने हाथों से देवी की मूर्ति बनाकर पूजा की। मिथुन शील ने कहा, जब मैं 6 साल का था, तब नदी में नहाते समय मैंने यह सवा हाथ वाला चांदी का त्रिशूल पाया था। फिर मुझे कई बार देवी माँ के सपने आये. चूंकि मैं छोटा था इसलिए घर पर लोग मेरी बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते थे।

Vlcsnap 2023 10 11 15h55m50s49माता-पिता ने कहा कि बड़े होकर पूजा करना। लेकिन घर में एक के बाद एक घटना घटती गई। तब सभी के दिलों में विश्वास पैदा हुई और फिर धूमधाम से शुरू होती है दुर्गा पूजा. चूंकि घर के लोग मूर्ति बनाने के काम से जुड़े हैं। तो पहले पिताजी, चाचा मूर्तियाँ बनाते थे। फिर मैं अब अपने हाथों से एक मूर्ति बनाकर उसकी पूजा करता हूं। और इस पूजा के दिन गांव के लोग भी घर पर इकट्ठा होते हैं. कई लोग मनोकामना पूरी होने पर यहां श्रद्धापूर्वक पूजा करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *