नयी दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न पहली बार 1992 में चर्चा में आए थे। वार्न ने 15 साल पहले अपना आखिरी टेस्ट मैच खेला था, लेकिन आज भी लेग-स्पिन किंग द्वारा फेंकी गई प्रतिष्ठित ‘बॉल ऑफ द सेंचुरी’ क्रिकेट प्रशंसकों के लिए यादगार है। टेस्ट क्रिकेट में शेन वॉर्न 700 से ज्यादा विकेट लेने वाले दुनिया के इकलौते लेग स्पिनर हैं। 30 साल पहले मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज के टेस्ट मैच में इंग्लैंड के बल्लेबाज माइक गैटिंग को क्लीन बोल्ड कर वार्न ने दुनिया को चौंका दिया था। वार्न द्वारा फेंकी गई जादुई गेंद गैटिंग के ऑफ स्टंप को हिट करने के लिए 90 डिग्री मुड़ी थी।

साल 1992 में सिडनी में शेन वार्न ने भारत के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था। वह अपने पहले टेस्ट में ज्यादा कुछ नहीं कर पाए और सिर्फ एक विकेट ही ले पाए थे। 1993 की एशेज सीरीज में से पहले वार्न (11 टेस्ट में 32 विकेट) को एक औसत लेग स्पिनर माना जाता था। वॉर्न ने 1992 के बॉक्सिंग-डे टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ 52 रन देकर 7 विकेट लिए थे।

वार्न के निधन से सचिन भी आहत : ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वॉर्न के निधन की खबर ने प्रशंसकों का दिल तोड़ दिया है, भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर भी वॉर्न के निधन से आहत हो गए हैं। वार्न के निधन की खबर सुनकर सचिन ने ट्वीट कर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की है। सचिन ने अपने ट्वीट में उल पलों को याद किया है जब दोनों क्रिकेट के मैदान पर अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी से कमाल करते थे।

तेंदुलकर ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘स्तब्ध, तुम्हारी कमी खलेगी वॉर्नी, मैदान से भीतर या बाहर तुम्हारे साथ कोई पल उबाऊ नहीं होता था। मैदान के भीतर हमारी प्रतिद्वंद्विता और बाहर हंसी मजाक को हमेशा याद करूंगा। भारत के लिये तुम्हारे मन में खास जगह थी और भारतीयों के मन में तुम्हारे लिये। बहुत जल्दी चले गए।’

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × one =