कीव। यूक्रेन में रूसी सैन्य कार्रवाई के बीच रूस में युद्ध विरोधी प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है। ब्रितानी अखबार ‘द गार्डियन’ ने बताया कि रूसी पुलिस ने बुधवार को सेंट पीटर्सबर्ग में युद्ध-विरोधी विरोध प्रदर्शन में येलेना ओसिपोवा को हिरासत में लिया गया। रूसी अधिकारियों द्वारा 77 वर्षीय सामाजिक कार्यकर्ता को प्रदर्शन स्थल से हटाने का वीडियो सोशल मीडिया वायरल है। अखबार ने बताया कि रूस के शहरों में हजारों लोग पुलिस की धमकियों तथा यूक्रेन पर आक्रमण के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं।

जेल में बंद क्रेमलिन के आलोचक एलेक्सी नवलनी ने बुधवार को ट्वीट किया,”रूस, हम शांति का देश बनना चाहते हैं। कुछ लोग हमें शांत देश बुलाते हैं लेकिन कम से कम हम आतंकित लोगों का देश नहीं बनें।”मैं यह देखकर चुप नहीं रह सकता कि कैसे 100 साल पहले की घटना रूसियों के लिए यूक्रेन के लोगों को मारने का बहाना बन गया है।’ यह 21वीं सदी का तीसरा दशक है और हम लोगों के जलने की खबरें देख रहे हैं।

हम अपने टीवी पर परमाणु युद्ध शुरू करने के वास्तविक खतरों को देख रहे हैं। मैं यूएसएसआर से हूं। मैं वहां पैदा हुआ था और उस समय शांति के लिए लड़ाई होती थी। मैं सभी से सड़कों पर उतरने और शांति के लिए लड़ने का आह्वान करता हूं। पुतिन रूस नहीं हैं।’ उन्होंने कहा कि आपको उनलोगों पर गर्व होना चाहिए जो बिना किसी बुलावे के नो वार के तख्तियां लेकर सड़कों पर उतर आये। यह वे 6824 लोग हैं, जिन्हें रूसी पुलिस ने युद्ध के खिलाफ प्रदर्शन करने के आरोप में हिरासत में लिया है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 1 =