मास्को। स्वीडन के नेटो में शामिल होने को लेकर रूस के विदेश मंत्रालय ने बयान दिया है। बयान में कहा गया है कि स्वीडन के नेटो में शामिल होने से पूरे यूरोप की सुरक्षा को काफ़ी नुकसान होगा। इससे पैदा होने वाले ख़तरों से निपटने के लिए रूस को अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा को मज़बूत करने के लिए सैन्य और तकनीकी दोनों तरह से उपाय करने होंगे। इस संबंध में बहुत कुछ स्वीडन के नेटो में शामिल होने पर निर्भर करेगा, जिसमें गठबंधन सैन्य ब्लॉक के स्ट्राइक सिस्टम स्वीडन की धरती पर तैनात किए जा सकते हैं। 16 मई को स्वीडन की सरकार ने नेटो की सदस्यता के लिए आवेदन करने का फ़ैसला किया था।

रूस का कहना है कि नेटो की सदस्यता स्वीडन की सुरक्षा को नहीं बढ़ाएगी। सत्ता में बैठे स्वीडिश नेताओं का ये फैसला वहाँ भविष्य में लंबे समय तक नागरिकों के हितों को पूरा नहीं करता है। रूस बार बार इस बात को कहता है कि राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने के क्या तरीक़े होंगे, इसका चुनाव किसी भी देश का आंतरिक मामला है।  रूस का कहना है कि स्वीडन की विदेश नीति 200 सालों से ज़्यादा समय से तटस्थता पर आधारित है और दशकों से बाल्टिक सागर क्षेत्र में स्थिरता और विश्वास को बनाए रखने में महत्वपूर्ण रही है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =