प्रयागराजसामाजिक सेवा एवं शोध संस्थान ने प्रयागराज में संगोष्ठी आयोजित हुई जिसका विषय था – “शिक्षा से सुखमय जीवन बनता है” सामाजिक सेवा एवं शोध संस्थान के अध्यक्ष डॉ. रश्मि शुक्ला ने कहा कि आजकल परीक्षाएं चल रही है, सभी माता-पिता की तरफ से और हमारी तरफ से बच्चों को आशीर्वाद। हमको बच्चों में उत्साह का माहौल बनाना चाहिए। यदि कोई पेपर खराब हो गया है तो उस पर ही टिके ना रहें आगे के पेपर की तैयारी करें, तनाव ना रखें, जो अपनी हॉबी है उनको जब खाली समय हो तब करें। एक नियमित दिनचर्या बना ले उसका पालन करें। संगीत सुनें, योगा करें, खान-पान का ध्यान रखें।

कार्यक्रम मुख्य अतिथि डॉ. सीए सुधीर कुमार शुक्ला ने कहा की हर माँ पिता का कर्तव्य है कि वह बच्चों को परीक्षा के समय अच्छा वातावरण दे। यदि किसी को असफलता मिलती है तो निराश होने की जगह आगे क्या करना है इसकी रणनीति बनाएं। हर बच्चा अपनी जगह सर्वोच्च है, सब में अलग-अलग योग्यता होती है। उसी के अनुकूल बच्चा परिणाम देता है। परीक्षाफल आने पर बच्चे की सफलता पर जिस प्रकार से परिवार साथ देता है उसी प्रकार बच्चे की असफलता में भी उसका साथ देना चाहिए। मनोबल देना चाहिए निराश पूर्ण वातावरण नहीं बनाना चाहिए।

विशिष्ट अतिथि रुखसाना ने कहा कि आजकल जो बच्चे की रुचि अनुकूल शिक्षा हो वही हमें बच्चों को देना चाहिए। सोनम ने कहा ज़्यादा मोबाइल प्रयोग, अनिद्रा, तनाव से बचें, धनात्मक सोच रखें। इस कार्यक्रम में चित्रांगद शुक्ला, अनुश्री शुक्ला, सोनम, श्रुति नीरजा, नीलू, अनूपमा सिन्हा, विनीता, आयुषी, ज्योति इत्यादि लोग शामिल हुए। सब माताओं ने अपने अपने बच्चों के अनुभव साझा किया और अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के अंत में सभी सदस्यों ने संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा जी को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित किया।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five − 4 =