राष्ट्रीय कवि संगम के मध्य कोलकाता इकाई द्वारा आयोजित मासिक काव्य गोष्ठी में बही काव्य धारा

“कौन रोक सकता है कवि की उड़ान को”

कोलकाताराष्ट्रीय कवि संगम के मध्य कोलकाता इकाई द्वारा रविवार को मासिक काव्य गोष्ठी का आयोजन ऑनलाइन माध्यम से किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत जिलाध्यक्ष रामाकांत सिन्हा के सुमधुर स्वर में सरस्वती वंदना से एवं इकाई के संरक्षक उमेश चंद्र तिवारी द्वारा स्वागत भाषण से हुआ। कवि गोष्ठी की अध्यक्षता राष्ट्रीय कवि संगम के प्रांतीय अध्यक्ष डॉ. गिरिधर राय द्वारा की गई। मुख्य अतिथि के तौर पर वरिष्ठ कवियत्री श्यामा सिंह की उपस्थिति ने कार्यक्रम की गरिमा बढ़ा दी। मंच का संचालन मध्य कोलकाता की महामंत्री व वरिष्ठ कवियत्री स्वागता बसु एवं युवा कवित्री सौमी मजुमदार ने किया।कवियों द्वारा प्रस्तुत की गई सुर एवं भावों से ओतप्रोत कविताओं से काव्य संध्या काफी रंगीन हो उठी।

कार्यक्रम में वरिष्ठ कवियों के साथ-साथ युवा कवि-कवित्रियों ने भी भाग लिया। “अवध हमारे अवधपति का” रचना को गीत रूप में प्रस्तुत कर हिमाद्रि मिश्रा ने सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। डॉ. गिरिधर राय, श्यामा सिंह, स्वागता बसु, सौमी मजुमदार रामपुकार सिंह, सुषमा राय पटेल, कामायनी संजय, सुदामी यादव, मनोरमा झा, अर्चना तिवारी, संचिता सक्सेना, कंचन राय, मोनू यादव, ऋषिका सरावगी आदि की कविताओं ने श्रोताओं का मन मोह लिया। कार्यक्रम में वरिष्ठ कवियों ने युवा कवियों का उत्साहवर्धन के संग मार्गदर्शन भी किया।

मुख्य अतिथि श्यामा सिंह ने अपने वक्तव्य में मध्य कोलकाता के कार्यकर्ताओं की भूरी-भूरी प्रसंशा की। अध्यक्ष डॉ. गिरिधर राय की कविताएँ ख़ूब सराही गईं। उन्होंने अपने अध्यक्षीय अभिभाषण द्वारा सबका मार्गदर्शन किया। कार्यक्रम का समापन मध्य कोलकाता जिला इकाई के अध्यक्ष रामाकांत सिन्हा के धन्यवाद ज्ञापन एवं इन पंक्तियों के द्वारा सम्पूर्ण हुआ,
कौन रोक सकता है कवि की उड़ान को
थोड़ा और ऊंचा,थोड़ा और ऊंचा,
थोड़ा और ऊंचा कर लो आसमान को।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + nine =