डॉ. रश्मि शुक्ला की कविता : गणतंत्र दिवस पर संकल्प

।।गणतंत्र दिवस पर संकल्प।।
डॉ. रश्मि शुक्ला

गणतंत्र दिवस पर हम सब मिलकर संकल्प करें,

सद्ज्ञान, प्रचारित कर हम सद्विचार संचार करें।

प्राणपुंज ॠषिचिंतन द्वारा, नूतन प्राण भरें।

मन कि परतों का शोधन कर,उसमें जन संताप हरें,

ध्यान-धारणा की शुभ किरणें, धरती पर बिखरें।

अमृत सबको मिले संवेदना का, नव जनमानस,

जिएँ डूबकर सुख-शांति में, आस्था जनमानस।

स्वाध्याय की सुखद विधा की ओर स्वयं को हम मोड़ें,

तृप्ति आत्मा को देने को, अंतस से मन को हम जोड़ें।

लोभ-लालच ही मानव से है, कर्म अवांछित करवाता,

जनमंगल के विमल भाव से, परहित में लग जाता।

सुधा की धार को आज, हर परिवार में भरना है,

सौहार्द्रय से प्लावित हृदय, मनुज का करना है।

मरूस्थल पीड़ितो को अब, नंदन में विचरना है,

अभी पहले करूण वात्सल्य से,यह पीर हरना है,

पुरानी रूढ़ियो को छोड़ते, बिलकुल न अब डरना है।

नए निर्माण से पहले, पुराना क्रम सब अब बदलना है,

नए युग के विकास भवन की, स्नेह से नींव भरना है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 3 =