यूक्रेन संकट के बीच पीएम मोदी ने उच्च स्तरीय बैठक कर भारत की सुरक्षा तैयारियों की समीक्षा की

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को रूस और यूक्रेन के बीच जारी संघर्ष के संदर्भ में भारत की सुरक्षा तैयारियों और मौजूदा वैश्विक परिदृश्य की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, विदेश मंत्री एस. जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव राजीव गौबा, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी.के. मिश्रा ने उच्च स्तरीय बैठक में भाग लिया। रूस द्वारा 24 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू करने के बाद से प्रधानमंत्री मोदी ने कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों के साथ कई उच्च-स्तरीय बैठकों की अध्यक्षता की है और भारत ने छात्रों सहित फंसे हुए भारतीय नागरिकों को एयरलिफ्ट करने के लिए ‘ऑपरेशन गंगा’ नामक एक बड़े पैमाने पर निकासी मिशन शुरू किया है।

अब तक, सरकार युद्धग्रस्त देश से 20,000 से अधिक भारतीयों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों के माध्यम से वापस ला चुकी है। 11 मार्च को, पूर्वोत्तर शहर सुमी में फंसे 600 से अधिक भारतीय छात्रों को यूक्रेनी प्राधिकरण द्वारा प्रदान किए गए मानवीय गलियारे का उपयोग करके नई दिल्ली ले जाया गया था। ये भारतीय छात्र शुक्रवार को तीन उड़ानों से यहां पहुंचे, जिनमें ऑपरेशन गंगा के तहत भारतीय वायुसेना का एक सी-17 ग्लोब मास्टर भी शामिल है।

यूक्रेन के उत्तर पूर्व भाग में और रूसी सीमा के करीब स्थित सूमी क्षेत्र, रूसी सेना की भारी गोलाबारी और बमबारी की चपेट में आ गया था। लगभग 700 भारतीय छात्र वहां फंस गए थे क्योंकि भारी बमबारी के तहत उन्हें निकालना असंभव हो गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 7 मार्च को यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोदिमिर जेलेंस्की और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात करने के बाद रूस और यूक्रेन की सरकारों ने संघर्ष विराम की घोषणा की और एक मानवीय गलियारा प्रदान किया, जिसमें शेष भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए सुरक्षित मार्ग प्रदान करने का अनुरोध किया गया था।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × one =