कोलकाता। शिक्षक भर्ती घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार पश्चिम बंगाल के उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी मानी जाने वाली अर्पिता मुखर्जी के एक अन्य फ्लैट में बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय को फिर से बड़ी मात्रा में नकदी मिली। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। केंद्रीय एजेंसी ने मुखर्जी को दक्षिण कोलकाता में उनके फ्लैट से 21 करोड़ रुपये से अधिक की बेहिसाबी नकदी का पता लगाने के एक दिन बाद 23 जुलाई को भी गिरफ्तार किया था। इस बार, नकदी शहर के उत्तरी किनारे के बेलघरिया में उसके स्वामित्व वाले एक अन्य अपार्टमेंट में मिली।

अधिकारी ने कहा कि ईडी के अधिकारियों को बेलघरिया के रथतला इलाके में दो फ्लैटों में घुसने के लिए एक दरवाजा तोड़ना पड़ा क्योंकि उन्हें खोलने की चाबी नहीं मिली। संपर्क किए जाने पर उन्होंने कहा, ”हमें आवास परिसर के एक फ्लैट से अच्छी रकम मिली है। फ्लैटों की तलाशी के दौरान कई अहम दस्तावेज भी मिले। पूछताछ के दौरान मुखर्जी ने ईडी को कोलकाता और उसके आसपास अपनी संपत्तियों की जानकारी दी। बुधवार सुबह से ही एजेंसी उन संपत्तियों पर छापेमारी कर रही है।

मंत्री और मुखर्जी से पूछताछ के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा कि हालांकि वह ”पूरे समय सहयोग करती रही हैं” लेकिन चटर्जी ने ऐसा नहीं किया। कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा निर्देशित सीबीआई, पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की सिफारिशों पर सरकार द्वारा प्रायोजित और सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह-सी और डी कर्मचारियों के साथ-साथ शिक्षकों की भर्ती में कथित अनियमितताओं की जांच कर रही है। ईडी घोटाले में मनी ट्रेल पर नजर रख रही है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 − 4 =