कब किस दिन और किसका व्रत रहना चाहिए?

सोमवार – चंद्र से पीड़ित व्यक्ति को सोमवार का व्रत करना चाहिए। ये दिन भगवान शिव को समर्पित है। दाम्पत्य जीवन में सुख समृद्धि पाएँ इस व्रत के करने से।

मंगलवार – मंगल से पीडित व्यक्ति को मंगलवार का उपवास एवं हनुमान जी की आराधना अवश्य करनी चाहिए। हर कार्य में मंगलकारी परिणाम प्राप्त करने के लिए मंगलवार का उपवास रखना चाहिए।

बुधवार – कमजोर मस्तिष्क वाले एवं आत्मिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को बुधवार के दिन उपवास रखना चाहिए। यह भगवान गणेश का दिन माना गया है और श्रीगणेश बुद्धि के दाता है। बुधवार का दिन बुद्धि प्राप्ति का दिन होता है।

गुरुवार – बृहस्पति, देवताओं के गुरु हैं। उथली व छिछली मानसिकता वाले व्यक्ति को बृहस्पतिवार का उपवास अवश्य रखना चाहिए। बृहस्पति सत्व गुणी हैं तथा ज्ञान, अच्छे एवं सकारात्मक विचार और शिक्षण का प्रतिनिधित्व करते हैं।

शुक्रवार – शीघ्रपतन, प्रमेह रोग के रोगियों को शुक्रवार के दिन उपवास रखना चाहिए क्योंकि शुक्रवार ओज, तेजस्विता, शौर्य, सौंदर्यवर्धक और शुक्रवर्धक होता है। ज्योतिष के अनुसार शुक्र देव ‘शुक्र वार’ के स्वामी हैं। वे धन, खुशी, सौंदर्य और प्रजनन का प्रतिनिधित्व करते हैं।

शनिवार – समस्त दुखों एवं परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए शनिवार के दिन उपवास रखना चाहिए। भगवान शनि आपके समस्त परेशानियों को दूर करने में आपकी सहायता करते हैं।

रविवार – अच्छा स्वास्थ्य व तेजस्विता पाने के लिए रविवार के दिन उपवास रखना चाहिए। रविवार सूर्य का दिन होता है और सूर्य सभी ग्रहों के मुखिया है। नौकरी पाना चाहते हैं तो यह व्रत आपके लिए उपयोगी है।

जोतिर्विद वास्तु दैवज्ञ
पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री
9993874848

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + six =