संत परम्परा का सामाजिक-साहित्यिक योगदान पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

उज्जैन । राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आगामी 5 मार्च को पूणे में महाराष्ट्र की संत परम्परा का सामाजिक-साहित्यिक योगदान विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन होगा। संगोष्ठी पुना कॉलेज पूणे में होगी। यह जानकारी राष्ट्रीय महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी ने देते हुए बताया कि राष्ट्रीय संगोष्ठी के मुख्य अतिथि शिक्षाविद् वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. सुनील देवधार, अध्यक्षता प्राचार्य आफताब अनवर शेख, मुख्य वक्ता राष्ट्रीय मुख्य संयोजक डॉ. शहाबुद्दीन शेख, प्रमुख वक्ता डॉ. बालासाहेब तोरस्कर, डॉ. अरूणा राजेन्द्र शुक्ल, डॉ. शहनाज अहमद शेख, सुवर्णा जाधव एवं संस्था प्रतिवेदन भुवनेश्वरी जायसवाल तथा संगोष्ठी की प्रस्तावना प्रदेशाध्यक्ष डॉ. भरत शेणकर, संचालन डॉ. रजिया शेख करेगी।

संगोष्ठी के संयोजक डॉ. मोहम्मद शाकिर शेख, राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता डॉ. मुक्ता कौशिक, राष्ट्रीय संयोजक डॉ. अनसूया अग्रवाल, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. दीपिका सुतोदिया, प्राध्यापिका रोहिणी डावरे, कविता राजपूत, डॉ. प्रभा शर्मा, कुसुमसिंह ‘लता‘, ललिता अध्यापक, डॉ. संगीता पाल, सविता इंगले, प्रतिभा मगर, सीमा निगम, अलका येवले, डॉ. रीना सुरडकर, सुजाता पाटील, डॉ. रूपा व्यास, उपमा आर्य, ज्योति जलज, डॉ. अनुराधा सिंह, ज्योति मोरे, डॉ. प्रवीणबाला, ज्योति चौहान आदि भी अपने शोध पत्र का वाचन करेंगे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 11 =