श्रीनगर। जम्मू कश्मीर पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि पांच अगस्त- 2019 को अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के बाद राज्य में कानून-व्यवस्था की किसी स्थिति में एक भी नागरिक की जान नहीं गयी है। पुलिस ने पांच अगस्त- 2019 से तीन साल पहले और तीन साल बाद हुई हिंसा के तुलनात्मक आंकड़ों का विवरण देते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के तीन साल बाद कानून व्यवस्था की 438 घटनाएं हुई जबकि इससे तीन साल पूर्व तक इन घटनाओं की संख्या 3686 थी।

पुलिस ने दावा किया कि जम्मू कश्मीर की स्वायत्तता खत्म होने के बाद पिछले तीन साल के दौरान कानून और व्यवस्था की स्थिति में किसी भी नागरिक की मौत नहीं हुई है, जबकि अनुच्छेद 370 की समाप्ति से तीन वर्ष पहले की अवधि में 124 नागरिक मारे गए थे। उन्होंने बताया कि इसी तरह कानून-व्यवस्था की घटनाओं में इस दौरान किसी पुलिसकर्मी की मौत नहीं हुई है। वहीं पांच अगस्त- 2019 से पहले छह पुलिसकर्मी शहीद हुए थे। इसी अवधि के तीन साल बाद 617 आतंकवादी घटनाएं हुई जबकि इससे पहले के तीन वर्षों में 930 घटनाएं दर्ज की गयी थी।

अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी होने के तीन साल पूर्व तक 290 सुरक्षाकर्मी (पुलिसकर्मियों सहित) और 191 नागरिक मारे गये जबकि इसके बाद के तीन वर्षों में मारे गये सुरक्षा बलों की संख्या 174 और नागरिकों की संख्या 110 थी। जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त होने के तीन वर्ष पूरे होने के मौके पर राजधानी श्रीनगर में कड़ी चौकसी बरती जा रही है। राज्य सरकार ने शुक्रवार को कई कार्यक्रमों की योजना बनाई है और मुख्य समारोह बख्शी स्टेडियम में आयोजित किया जाएगा ,जहां उपराज्यपाल मनोज सिन्हा हाल ही में नवीनीकृत स्टेडियम का उद्घाटन करेंगे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × two =