राष्ट्रीय बालिका दिवस-2022: देशभर में हो रहे हैं कार्यक्रम

नई दिल्ली। देश में लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। देश में कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि इस बार बालिका दिवस पर सभी कार्यक्रम वर्चुअल-ऑनलाइन मोड पर आयोजित किए जाएंगे।

सोमवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर और आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में, 2022 के पीएमआरबीपी पुरस्कार विजेताओं को सुविधा प्रदान करके बच्चों की अनुकरणीय उपलब्धियों को पहचानने के लिए दोपहर 12 बजे एक वर्चुअल आयोजित किया जाएगा। प्रधानमंत्री विजेताओं के साथ बातचीत करेंगे। इस मौके पर बच्चे अपने माता-पिता और अपने संबंधित जिले के संबंधित जिला मजिस्ट्रेट के साथ अपने जिला मुख्यालय से इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।

समारोह के दौरान प्रधानमंत्री पीएमआरबीपी के विजेताओं को डिजिटल सर्टिफिकेट देंगे। पीएमआरबीपी 2021 के विजेताओं को भी प्रमाण पत्र दिए जाएंगे, जिन्हें पिछले साल कोविड स्थिति के कारण प्रमाण पत्र नहीं दिया जा सका था। पीएमआरबीपी 2022 के पुरस्कार विजेताओं को दिए जाने वाले 1 लाख रुपये का नकद पुरस्कार भी कार्यक्रम के दौरान विजेताओं के संबंधित खाते में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

इसके साथ ही महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में यूनिसेफ द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन कार्यक्रम ‘कन्या महोत्सव’ में देश भर के कुछ हाशिए की पहचान के बच्चों के साथ बातचीत करेंगी। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया जाएगा। कपड़ा, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय, उपभोक्ता मामले और खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल युवा लड़कियों के साथ एक आभासी संवाद सत्र आयोजित करेंगे, जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय नवाचार किए हैं जो अग्रणी हैं।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह एक आभासी मंच पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल करने वाली युवा महिला उद्यमियों के साथ भी बातचीत करेंगे। मंत्रियों के साथ ये बातचीत एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगी और ऐसी अन्य मिलियन लड़कियों को अपने विचारों में दृढ़ विश्वास रखने और आर्थिक स्वतंत्रता की दिशा में अपने दिल का अनुसरण करने के लिए प्रेरित करेगी। राष्ट्रीय महिला आयोग एक आभासी चर्चा का आयोजन कर रहा है जिसके माध्यम से उनके वक्ता लड़कियों के अधिकारों और बालिका शिक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने में योगदान देंगे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 2 =