ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान माँ को गलती से भी नहीं खानी चाहिए ये 5 चीजे

नवजात शिशु के लिए मां का दूध अमृत समान माना जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा सभी बीमारियों से दूर रहे तो स्तनपान जरूर कराएं। ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान शरीर में ऑक्सिटॉक्सिन हार्मोन निकलता है जो न केवल बच्चों की सेहत अच्छी रखता है बल्कि मां और शिशु के जुड़ाव को भी बेहतर करता है। हालांकि, ये बातें तभी काम करेंगी जब स्तनपान के दौरान मां सही डाइट फॉलो करती हों। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान कुछ फूड्स का सेवन अनहेल्दी माना जाता है। आइए जानते हैं…..

गेहूं: गेहूं में ग्लूटन नामक प्रोटीन होता है जो कई बार नवजात शिशुओं को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए विशेषज्ञ इन लेडीज को गेंहू का सेवन नहीं करने की सलाह देते हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक स्तनपान करने वाले शिशु के स्टूल में खून दिखता है तो ऐसा ग्लूटन इनटॉलरेंस के कारण हो सकता है। साथ ही, उन्हें पेट में दर्द और चिड़चिड़ापन भी हो सकता है।

खट्टे फल: एक्सपर्ट्स के अनुसार विटामिन सी युक्त खट्टे फलों का सेवन स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सही नहीं है। जब मां इन फलों का सेवन करती है तो दूध में अम्ल बनने लगता है। ये एसिड ध के साथ बच्चे के शरीर में जाता है जिससे उनमें पेट में दर्द, दस्त और चिड़चिड़ापन होने का खतरा बढ़ जाता है।

लहसुन: स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए लहसुन का सेवन नुकसान तो नहीं करता है लेकिन इसमें पाए जाने वाले तत्व एलिसिन की गंध कई लोगों को परेशान करती है। मां अगर लहसुन खाती हैं तो संभव है कि ये स्मेल ब्रेस्ट मिल्क में भी मिल सकती है जो बच्चों को नापसंद हो सकती है। ऐसे में शिशु दूध पीने से कतराने लग सकता है।

पत्तागोभी: इस हरी सब्जी को खाने से महिलाओं में गैस और सीने में जलन की समस्या उत्पन्न होती है। साथ ही, शिशु में भी पाचन संबंधी दिक्कतें आनी शुरू हो जाती है। इसके अलावा, मूली, राजमा, चना, छोले, दाल, आलू, मूंगफली और कॉर्न खाने से भी गैस हो सकता है।

कॉफी: कॉफी में प्रचुर मात्रा में कैफीन पाया जाता है जो शिशु की सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। बताया जाता है कि ज्यादा कैफीन के सेवन से बच्चों को पेट खराब की शिकायत हो सकती है और उनमें चिड़चिड़ापन आ जाता है। कॉफी के अलावा, चॉकलेट खाने से भी बचें।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Kolkata Hindi News इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें – धन्यवाद

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + sixteen =