स्थानीय सामान के इस्तेमाल, स्वच्छता को जीवन-शैली बनाने का युवाओं से मोदी का आह्वान

प्रतीकात्मक फोटो, साभार गूगल

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की विशाल युवा आबादी और लोकतांत्रिक मूल्यों को देश की सबसे बड़ी शक्ति बताते हुए युवा पीढ़ी का देश में बनी वस्तुओं की खरीद को प्राथमिकता देने का बुधवार को आह्वान किया। मोदी ने ‘बेटे-बेटी’ के बीच समानता पर बल देते हुए कहा कि बेटियों के विवाह की न्यूनतम उम्र बढ़ाने का फैसला उन्हें अवसरों की समानता देने की सोच से किया गया है। मोदी स्वामी विवेकानन्द की जयंती पर आज पुड्डुचेरी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन कर रहे थे। स्वामीजी का जन्म दिन राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह आयोजन दो दिन चलेगा।

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर देश भर से ऑनलाइन जुड़ी युवा पीढ़ी से ‘वोकल फाॅर लोकल’ होने और ‘भारत में बने सामानों और भारत की मिट्टी की सुगंध वाली वस्तुओं’ की खरीद करने ‘स्वच्छता को लाइफस्टाइल (जीवन-शैली) बनाने का पुरजोर आह्वान किया। उन्होंने कहा, ‘आप देश में बनी चीजों की खरीदें, रोजगार इसी से पैदा होने वाला है, देश के गरीबों को इसी से सम्मान मिलने वाला है। हम जानते हैं कि बेटे और बेटियां एक समान हैं। इसी सोच के साथ सरकार ने बच्चियों की बेहतरी के लिए उनकी शादी की उम्र को 21 साल करने का निर्णय लिया है ताकि बेटियों को करियर बनाने के लिए ज्यादा समय मिले। यह इस दिशा में बड़ा निर्णय है।’

उद्घाटन समारोह में सूचना प्रसारण एवं खेल तथा युवा मामलों के केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, पुड्डुचेरी के उप राज्यपाल तमिल साई सुन्दरराजन, मुख्यमंत्री एन रंगास्वामी और अन्य गणमान्य लोग शामिल थे। यह महोत्सव देश के युवा मन को दिशा देने और उन्हें राष्ट्र निर्माण के लिये शक्ति के रूप में उसे एकजुट करने के उद्देश्य से आयोजित किया गया है। प्रधानमंत्री ने कहा, हम इसी वर्ष श्री अरबिंदो की 150वीं जन्मजयंती मना रहे हैं और इस साल महाकवि सुब्रमण्यम भारती जी की भी 100वीं पुण्यतिथि है। इस बार का उत्सव इन दोनों मनीषियों को समर्पित है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज दुनिया भारत को एक आशा की दृष्टि से, एक विश्वास की दृष्टि से देखती है। क्योंकि, भारत का जन भी युवा है, और भारत का मन भी युवा है। भारत अपने सामर्थ्य से भी युवा है, भारत अपने सपनों से भी युवा है।’ मोदी ने कहा कि भारत अपने चिंतन और अपनी चेतना से भी युवा है। भारत के युवाओं के पास बड़ी युवा आबादी के साथ साथ लोकतांत्रिक मूल्य भी हैं। इसका लाभ अतुलनीय है।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − 1 =