कुण्डलिया

फिर से घर में हों वही, एक-नेक परिवार
सुगठित स्वस्थ समाज से, जुड़ें सभी के तार

जुड़ें सभी के तार, प्यार दें दादा-दादी
बच्चे सब मिल-बाँट, खेलने के हों आदी

कैसे उतरे भूत, आधुनिकता का सिर से
बचपन के दिन काश! लौट कर आयें फिर से
डीपी सिंह

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three + thirteen =