रेलनगरी खड़गपुर की सांस्कृतिक धरा को सींच रही कीतिका झा

अनेक सम्मानों से विभूषित कीतिका ने हाल में नटराजन शिरोमणि उपाधि के साथ प्रथम स्थान हासिल कर उपलब्धियों की श्रृंखला में एक और पदक जोड़ लिया है .

तारकेश कुमार ओझा, खड़गपुर : आम बोलचाल में लेबर टाउन कहे जाने वाले खड़गपुर में कीतिका झा कम उम्र में ही सांस्कृतिक अलख जगाने का कार्य बखूबी कर रही है. अनेक सम्मानों से विभूषित कीतिका ने हाल में नटराजन शिरोमणि उपाधि के साथ प्रथम स्थान हासिल कर उपलब्धियों की श्रृंखला में एक और पदक जोड़ लिया है.

नर्तक दिव्यम राय द्वारा आयोजित यह राष्ट्रीय प्रतियोगिता ऑनलाइन थी, जिसमें देश भर से 200 से ज्यादा कलाकारों ने हिस्सा लिया. जिसमें अनुभवी गुरुजनों ने लोक कला और प्राचीन संस्कृति पर विशद व्याख्यान प्रस्तुत किया . कलाकारों को शास्त्रीय नृत्य में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के लिए उचित मंच प्रदान किया गया. कड़ी प्रतिस्पर्धा के पश्चात कीतिका को प्रथम घोषित किया गया . विजेता का फैसला अनुभवी निर्णायक के मत पर आधारित था.

जो संगीत नाटक अकादमी द्वारा सम्मानित और अंतरराष्ट्रीय कुचिपुड़ि नर्तकी थी. साथ ही वे इस क्षेत्र की शीर्ष स्तर की गुरु भी हैं. इस संबंध में दिव्यम राय का कहना है कि कोरोना और लॉक डाउन के दरम्यान कलाकारों को सक्रिय करने और उन्हें उचित मंच प्रदान करने के लिए उन्होंने यह आयोजन किया. भविष्य में भी उनकी कोशिश सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं आयोजित करने की रहेगी, जिससे कलाकारों को मंच मिलता रहे और सांस्कृतिक गतिविधियां कभी कम न हो.

शहर की निम्न मध्य वर्गीय परिवार की कीतिका झा ने कहा कि निश्चित रूप से कोरोना काल और लॉक डाउन की अवधि में कलाकारों के मानस को समझते हुए इस प्रकार के महती आयोजन के लिए वे आयोजकों के प्रति आभार व्यक्त करना चाहती है. भले ही प्रतियोगिता ऑन लाइन हो. इससे आयोजन का महत्व कम नहीं हो जाता. जबकि कलाकारों का मनोबल बढ़ाने के लिहाज से देखें तो इसकी उपयोगिता और बढ़ जाती है. आखिरकार अनुकूल परिवेश में ही कलाकार अपनी प्रतिभा का संवर्द्धन कर पाते हैं.

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen − fifteen =