।।सन् 2022 में कुम्भ राशि का वार्षिक राशिफल।।

कुम्भ AQUARIUS
(गु, गे, गो, सा, सी, सु, से, सो, द)

शुभरंग- नीला,
शुभ अंक- 2.
शुभधातु- लोहा,
शुभरल- नीलम,
शुभदिन- शनिवार,
ईष्ट- शनिदेव की आराधना शुभफल देगी, शनि चालीसा का पाठ करें,
शुभमास- ज्येष्ठ, आषाढ़, भाद्रपद, आश्विन व पौष,
मध्यम मास- वैशाख, कार्तिक, मार्गशीर्ष, माघ व फाल्गुन,
अशुभ मास- चैत्र व श्रावण।

कुंभ राशि के जातक अपने आस-पास की दुनिया को सुधार कर उसे रहने लायक एक अच्छी जगह बनाना पसंद करते हैं। इस राशि का प्रतीक एक आदमी है, जो कंधे पर घड़ा उठाये हुए है। ये सच्चे अर्थो में मानवीय गुणों से भरपूर होते हैं। उन्नतशील और आधुनिक जो अपने विचारो पर चलते हैं और जल्द ही दूसरे लोग भी इनसे जुड़ जाते हैं और एक बेहतर समाज बनाने के प्रयास में लग जाते हैं। इनकी मित्रता का दायरा काफी बड़ा होता है। कुंभ राशि के जातक मानव जाति के प्रति प्यार और समाज की बेहतरी के लिए कुछ भी कर सकते हैं। लेकिन उसी समय में ये शांत और अलग हो जाते हैं और भावनात्मक लगाव से रहित हो जाते हैं। ये निष्पक्ष, आधुनिक और व्यावहारिक होते हैं।

ये अपने विचारों, जीवन और गति की स्वतंत्रता पसंद करते हैं और अक्सर महान आविष्कारक या तकनीकी विशेषज्ञ साबित होते हैं। अपने हर समय के बदलते विचारों की वजह से ये कभी-कभी सनकी साबित होते हैं। अलग सोच रखने वाले लोगो से कुंभ राशि के लोग सबंध नहीं बना पाते हैं। सहानुभूति, संवेदनशीलता, दार्शनिकता, दोस्ताना, आदि गुण कुंभ राशि में जन्में जातकों का एक मजबूत कौशल होता है। ये जानबूझकर अपने आप में खोए रहते हैं। जिससे दूसरे लोगों को इनसे मिलने-जुलने में परेशानी आती है। नतीजन, अक्सर ये अकेले पड़ जाते हैं।

कुंभ राशि के लोग आकर्षक होते हैं और उनके बारे में जो कुछ भी है, वो नरम और कोमल होना चाहिए। लेकिन, इनकी अपारंपरिक मानसिकता और मौलिकता अक्सर इनके विचित्र और अप्रत्याशित व्यवहार में प्रकट होती है। ये हमेशा अपने ज्ञान के क्षितिज का विस्तार करने के लिए प्रयासरत रहते हैं। इनका विश्लेषणात्मक मन इन्हें विज्ञान और आविष्कार के प्रति भी आकर्षित करता हैं। ये आसानी से उत्तेजित नहीं होते, बल्कि धैर्य से काम लेते हैं। कुंभ राशि के जातक जल्दी अपनी राय नहीं बदलते हैं। इन्हे कट्टरपंथी भी नहीं कहा जा सकता है, ये प्रगतिशील दृष्टिकोण रखते हैं।

कुंभ राशि में जन्मे जातक प्रतिभाशाली वैज्ञानिक और चिकित्सक बन सकते हैं। ये अपने कौशल का विश्लेषण अच्छी तरह करते हैं और घंटो अपना ध्यान केंद्रित करके रख सकते हैं। ये कलात्मक गतिविधियां में भी अच्छे होते हैं। कानून का भी एक और ऐसा क्षेत्र है, जिसमें ये बिना किसी ज्यादा समस्या के आगे बढ़ सकते हैं। हालांकि, पैसा कभी भी कुंभ जातको को चिंतित नहीं करता हैं। ये अक्सर परोपकार करते हैं और यात्रा में व्यस्त रहते हैं। जिससे इन्हें नुकसान भी होता हैं।

कुंभ राशि के जातक अपना निजी समय और स्थान बहुत पसंद करते हैं और उसमें घुसपैठ का स्वागत नहीं करते हैं। लेकिन जब लोग इन्हें जान जाते हैं, तो इन्हें आकर्षक और काफी करामाती पाते हैं। कुंभ राशि के लोगो के साथ प्यार करने का मतलब उनके कलात्मक और बौद्धिक रुचियों को साझा करना हैं। ये अपने साथी के लिए सब कुछ एकदम सही करना चाहते हैं। इनका प्यार और शादी के प्रति दृष्टिकोण तार्किक और बौद्धिक होता है। इसलिए मन के साथ दिमाग से भी प्यार करना एक अच्छे रिश्ते की पहचान है। ये मिलनसार और समझौतावादी होते हैं।

कुछ अन्य गुणों की बात करें तो ये जातक मानवीय दृष्टिकोण और प्रगतिशील जीवन और उसकी समस्याओं के प्रति स्वस्थ दृष्टिकोण रखते हैं। संकोची होते हैं, निर्णय लेने से पूर्व पूर्ण नापतौल करते हैं या अन्य लोगों द्वारा कार्यारम्भ करने तक प्रतीक्षा करते हैं। सदा सकतर्कता, धैर्य, एकाग्रता, अध्ययनशीलता से युक्त रहते हैं। वार्तालाप रूचिकर होता है। स्पष्टवादी, सबके प्रिय होते हैं। दयालु, अध्ययन पे्रमी और सज्जन होते हैं। अतीन्द्रिय शक्ति से युक्त होते हैं, ध्यान-साधना में रूचि होती है। स्मरणशक्ति तीव्र, दृष्टिकोण वैज्ञानिक होता है।

गरीबों के सेवक होते हैं। नवीन तकनीक और मशीनरी, अनुसंधान, निवेश आदि द्वारा धनार्जन करते हैं। तकनीकी शिक्षा में रूचि होती है। परिवार से लगाव होता है। जीवनसाथी के चुनाव में आयु को अनदेखी कर बृद्धि और शिक्षा में समानता पर जोर देते हैं। गृह सुसज्जित होता है जिसमें आधुनिक ढंग से पुरातात्विक सामग्री एकत्रित रहती है। अपने प्रेम को अभिव्यक्त नहीं करते। अगर इनका प्रेमी वासनाप्रिय हो तो वह असंतुष्ट होता है। क्योंकि कुंभ राशि के व्यक्ति शीतल होते हैं।

साल 2022 कुंभ राशि के जातकों के लिए सौहार्दपूर्ण रहने की संभावना है। आप इस वर्ष वास्तव में शांति के सिद्धांत का पालन करते नजर आ सकते हैं जिसकी वजह से आपको अपनी मेहनत का फल प्राप्त होगा। हालांकि इस वर्ष एक समय ऐसा भी आने की आशंका है जब आप अपनी नौकरी बदलने की सोच सकते हैं क्योंकि जो पद या कार्यभार आपको सौंपा गया है, आप उस अवधि में उससे असंतुष्ट रह सकते हैं। ऐसे में वार्षिक कुंभ भविष्यवाणी 2022 के अनुसार आपको सलाह दी जाती है कि इस समय आप धैर्य और समझदारी के साथ फैसले लें जैसे कि यदि आपको इस अवधि में आर्थिक परेशानी होती है तो नौकरी छोड़ने की जगह इस दौरान आप फ्रीलांस काम ढूंढ कर इस समस्या को खत्म कर सकते हैं या फिर किसी सहयोगी अथवा सहकर्मी से कोई परेशानी हो तो आप स्वयं को विवादों से दूर रखने की कोशिश कर इस समस्या से निपट सकते हैं।

यह साल कुंभ राशि की महिलाओं के लिए शानदार रहने की संभावना है। आपको इस दौरान अपने रिश्ते में सुखद आश्चर्य मिल सकते हैं। हालांकि आपको छोटी-छोटी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का इस वर्ष सामना करना पड़ सकता है। यह साल कुंभ राशि के उन जातकों के लिए भी बेहतर रह सकता है जो उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखते हैं। ऐसे में यह वर्ष उन छात्रों के लिए भी बेहतर रहने की संभावना है जो विदेश में उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं। वह जातक जो किसी संपत्ति में निवेश करने की योजना बना रहे हैं या फिर कोई बड़ा निवेश करने की योजना बना रहे हैं, उन्हें सलाह दी जाती है कि इस वर्ष आप किसी भी प्रकार का निवेश करते वक़्त बेहद सतर्क रहें और जहां भी निवेश करने की सोच रहे हैं, उसके बारे में अच्छे से जांच-पड़ताल करने के बाद ही कोई फैसला लें अन्यथा नुकसान हो सकता है।

इस वर्ष 12 अप्रैल से तृतीय स्थान में राहु शत्रुओं पर विजय दिलायेगा। धन लाभ के साथ आकस्मिक भाग्योञ्जति के अवसर बनेंगे। मित्रों से भी लाभ होगा किन्तु भ्रात वर्ग से वैमनस्य या भ्रातृ-बहिन को शारीरिक कष्ट संभव है। पड़ौसियों से भी अनबन रहेगी। 13 अप्रैल से दूसरे स्थान में गुरु का स्वराशि में आगमन शुभफलदायक रहेगा। पारिवारिक सुख में वृद्धि. धनागमन से आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। घर में शुभ कार्य सम्पन्न होंगे। वंशवृद्धि के लिये गुरु अनुकूल है। दान-धर्म, परोपकार में रुचि बढ़ेगी। चल सम्पत्ति में वृद्धि होगी। आपका राशिपति शनि है। आप जनवरी 2020 से ही शनि की साढ़ेसाती के प्रभाव में है। प्रारंभिक साढ़ेसाती लोहपाद से गतिशील है।

इस वर्ष २९ अप्रैल से जन्मराशि पर राशिपति शनि का आगमन होने से मध्य साढ़ेसाती रजतपाद से प्रारंभ होगी अतः दाम्पत्य जीवन में असन्तोष या पत्नी को शारीरिक कष्ट संभव है। भ्रात वर्ग से सौमनस्य का अभाव रहेगा। कार्य व्यवसाय से लाभ होगा किन्तु शनि के वक्रत्वकाल में अवरोध-विरोध के कारण अड़चनें पैदा होंगी। धर्म-अध्यात्म के क्षेत्र में रुचि बढ़ेगी। 4 जून से शनि वक्री होकर 12 जुलाई से पुनः बारहवें स्थान में छः माह के लिये। प्रारंभिक साढ़ेसाती के रूप में स्वर्णपाद से गतिशील होगा। फलतः शारीरिक स्वास्थ्य में कमजोरी, व्यय भार में वृद्धि होगी। सुख-शांति में कमी अनुभव होगी। 23 अक्टूबर से शनि मार्गी होकर 17 जनवरी 2023 से पुनः जन्म राशि पर मध्य साढ़ेसाती के रूप में ताम्रपाद से गतिशील होगा। फलत: कृषि कार्य व्यवसाय, वाहन आदि से श्रेष्ठ धनलाभ होगा। शनि राशिपति होने से अशुभ गोचर में अधिक कष्टप्रद नहीं होता है। उदासीनता का भाव अवश्य रहता है।

।।मासिक राशिफल।।

जनवरी : जीवन में उतार चढाव संभव। आत्मबल बढ़ने से मन प्रफुल्लित होगा। परिवारजन के सहयोग से मन संभल जायेगा। भावनात्मक पहलू आपको कमजोर करेगा। व्यापार के लिए लोन लेना पड़ सकता है। नौकरी के योग बनेंगे एवं मनोवांछित फल मिलने से जीवन सुखमय होगा।
माह की 1, 10, 19 व 28 तारीख को स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

फरवरी : समय की महत्ता को समझें। लग्रेश शनि का 12वें भाव में गोचर करने से आप महत्त्वाकांक्षी बनेंगे। चन्द्रमा का गोचर आपको निजी व कार्यक्षेत्र में प्रगति देगा। परिवार की भावनाओं से तालमेन नहीं बैठेगा। अष्टमस्थ चन्द्रमा मित्रों से द्वेष व मन को खिन्न करेगा।
माह की 2, 11, 20 व 29 तारीख काम के लिए श्रेष्ठ ।

मार्च : बच्चों को लेकर चिंतित हो सकते हैं। आपकी योग्यता को सर्वमान्यता मिलेगी। कार्यालय में आपकी प्रशंसा होगी, जिससे मन हर्षित होगा। चन्द्रमा का मंगल की राशि में गोचर आये के स्रोत बढ़ायेगा। वरिष्ठजनों की उपेक्षा से हानि होगी। अचानक मिलन से मन प्रसन्न होगा। मांगलिका कार्यों में व्यस्तत बढ़ेगी।
माह की 1, 2, 3, 10, 11, 12, 19, 20, 21, 28, 29 व 30 शुभ फलदायक है।

अप्रैल : दूसरों का सहयोग करना हितकर होगा। नयी योजनाओं की क्रियान्तिव होगी। पुरानी मेहनत का फल अब मिलेगा। अपनों से तालमेल बेहतर होगा। वरिष्ठजनों के सहयोग व सलाह से कार्यसिद्धि होगी।
माह की 4, 7, 13, 16, 22 व 27 तारिख को कोई नया काम प्रारम्भ न करें।

मई : काम के प्रति निष्ठा रखें। परिवार में प्रेम बढ़ेगा। चिंता के कारण स्वास्थ्य खराब होगा। कार्यक्षेत्र में उतार-चढ़ाव से मन खिन्न होगा। आपकी भावुकता का लोग गलत फायदा उठायेंगे। आपके कार्यों से आपकी मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी।
माह की 1, 2, 3, 10, 11, 12, 19, 20, 21, 28, 29 व 30 तारीख शुभ हैं।

जून : सद्कर्म पर ध्यान दें। पंचमेश बुध स्वराशि से 12 वें स्थित होने से पढ़ाई के प्रति रुझान तथा तीव्र महत्त्वाकांक्षा भी रहेगी। नई योजनाएं पूर्ण होगी। अनर्थक योजनाएं न बनायें अन्यथा हानि ही होगी। वाणी को नियंत्रित रखे, अन्यथा हानि होगी। पैसा रुक-रुककर आयेगा।
माह के प्रथम सप्ताह में किसी नए कार्य को न करें।

जुलाई : सांसारिक कर्मों में रहकर समाज कल्याण के लिए कार्य करना हितकर आर्थिक स्थिति आपके पक्ष में रहेगी। प्रभावशाली व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त होने से आत्मबल बढ़ेगा। परिवार में कहासुनी हो सकती है। किसी प्रिय से अनबन हो सकती । नये कॉन्ट्रेक्स से व्यापार में तरक्की होगी।
दिनांक 2, 3, 9, 11, 12, 18, 20, 21, 27 व 29 शुभ है।

अगस्त : वाणी पर नियंत्रण की आवश्यकता है। नयी योजनाओं को लेकर स्थायित्व आयेगा। प्रशासन से अनबन होगी। पैसों की आवक कम होगी, लेकिन अवांछित धन की प्राप्ति से स्थिति नियंत्रण आयेगी। उच्चाधिकारियों से व्यवहार सामान्य रहेगा। कार्य में जल्दबाजी घातक हो सकती है।
माह की 2, 3, 4, 5, 6, 12, 12, 14, 15, 22, 23, 24 व 28 तारीख श्रेष्ठ है।

सितम्बर : समय पर लिए निर्णय हितकर सिद्ध होंगे। परिवार का विवाद या कोर्ट-कचहरी के कार्यों में सुखद परिणाम मिलेंगे। आध्यात्मिक शांति की ओर बढ़ेंगे। अतिथि देवो भव का भाग जाग्रत होगा। उच्चाधिकारी प्रसन्न होंगे। मांगलिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ेगी। पुराने रोग व समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।
माह की 15 तारीख के उपरान्त किसी नए कार्य को न करें।

अक्टूबर : संतान को लेकर चिंतित हो सकते हैं। चन्द्रमा का दशम भावस्थ वृश्चिक का गोचर कॅरियर में स्थायित्व लायेगा। अपने राज किसी को न बतायें अन्यथा मुसीबल मोल ले लेंगे। स्वयं का सामर्थ्य आपकी प्रतिष्ठा बढ़ाएगा। षष्ठमस्थ चन्द्रमा शत्रु व रोग का नाश करेगा। यात्रा से लाभ होगा।
माह की 1, 2, 3, 6, 9, 10, 11, | 12, 15, 19, 20, 21 व 24 तारीख शुभ फलदायी है।

नवम्बर : यात्रा का योग बनेगा। चन्द्रमा की द्वादशस्थ स्थिति कष्टदायक होगी। वरिष्ठजनों का सहयोग तरक्की में सहायक होगा। फण्ड, ऋण, विरासत में मिलने वाली सम्पत्ति, निवेश सहित सभी आर्थिक मामले आपके पक्ष में होंगे। योजना से चलेंगे तो सभी बाधाओं को पार कर लेंगे।
माह की 5, 6, 14, 15, 23 व 24 तारीख किसी नए व्यक्ति से मिलाप कराएगी, जो की शुभ परिणामदायक होगा।

दिसंबर : शांत मन से किसी विषय पर विचार करना हितकर होगा। गंभीरता से कार्य करने पर आपके परिणाम आपके पक्ष में होंगे। विभागीय जाँच से सामना होगा। लाभदायी योजनाओं में निवेश होगा। वाक्चातुर्यता से सफलता मिलेगी। समाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।
माह के आखिरी सप्ताह को परिवार से साथ व्यतीत करना श्रेष्ठ।

कुंडली की अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें
पंडित मनोज कृष्ण शास्त्री
9993874848

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − fourteen =