सांकेतिक फोटो साभार : गुगल

कोलकाता पश्चिम बंगाल में गर्मी की छुट्टियों के बाद स्कूल खुलने के साथ ही प्राथमिक शिक्षा बोर्ड ने कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं। बोर्ड ने सरकार द्वारा संचालित और सहायता प्राप्त संस्थानों को पिछले दो वर्ष में कोविड-19 महामारी के बीच ऑनलाइन शिक्षण के दौरान छात्रों की शैक्षणिक प्रगति का आकलन करने के लिए एक मूल्यांकन सत्र आयोजित करने का निर्देश दिया। पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षक संघ के एक पदाधिकारी आनंद हांडा ने बताया कि महामारी के कारण छात्र स्कूल नहीं आए, खासकर ग्रामीण क्षेत्र में कई बच्चे नेटवर्क समस्या या घरों में आर्थिक तंगी के कारण पढ़ाई नहीं कर पाए।

हांडा ने कहा कि 27 जून को स्कूल फिर से खुलने के बाद बड़ी संख्या में छात्र स्कूल आ रहे हैं और मूल्यांकन अभ्यास छात्रों की प्रगति के बारे में बेहतर समझ प्राप्त करने में शिक्षकों की मदद करेगा। बोर्ड के सचिव आर.सी. बागची ने एक नोटिस में कहा, ”छात्रों के प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिए योगात्मक मूल्यांकन होगा, जो प्रारंभिक मूल्यांकन से पहले होगा।”

उन्होंने यह भी कहा कि प्रत्येक विषय के लिए निर्धारित पाठ्यक्रम का पालन करना होगा। नोटिस के अनुसार, पहला ऑफलाइन योगात्मक मूल्यांकन स्कूलों को 2 से 12 जुलाई के बीच, दूसरा सितंबर में और तीसरा दिसंबर में कराना होगा। प्रत्येक योगात्मक मूल्यांकन से पहले एक प्रारंभिक सत्र होगा।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 − eleven =