जम्मू कश्मीर में हाल के हमलों के बाद सुरक्षा स्थिति की समीक्षा कर सकता है गृह मंत्रालय

नई दिल्ली। गृह मंत्रालय (एमएचए) नागरिकों और सुरक्षा कर्मियों पर हालिया हमलों के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा कर सकता है। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। रविवार को शोपियां जिले में छुट्टी पर घर आए सीआरपीएफ के एक जवान मुख्तार अहमद को आतंकवादियों ने मार दिया, जो पिछले तीन दिनों में सुरक्षाकर्मियों पर इस तरह का चौथा हमला था। अस्पताल ले जाते समय रास्ते में अहमद ने दम तोड़ दिया। श्रीनगर के बाहरी इलाके में शुक्रवार को कुलगाम में आतंकियों ने सरपंच शब्बीर अहमद मीर की गोली मारकर हत्या कर दी थी, जबकि खानमोह के सरपंच बशीर अहमद भट की दो दिन पहले हत्या कर दी गई थी।

7 मार्च को श्रीनगर के व्यस्त संडे स्ट्रीट मार्केट अमीरा कदल में ग्रेनेड हमले में दो नागरिकों की मौत हो गई थी और एक पुलिस अधिकारी सहित कम से कम 35 लोग घायल हो गए थे। पूरे केंद्र शासित प्रदेश में सुरक्षा बढ़ा दी गई है, खासकर कश्मीर घाटी में, जबकि ड्रोन का इस्तेमाल वन क्षेत्रों की निगरानी के लिए भी किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि आतंकी हमले करने के बाद से जंगलों में छिपे हुए हैं। खुफिया एजेंसियों ने श्रीनगर और बारामुला जिले के पास ‘कुछ स्थानों’ की पहचान की है और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) के समन्वय से इन आतंकवादियों के खिलाफ एक समन्वित अभियान की योजना बनाई जा चुकी है।

खुफिया एजेंसियों द्वारा इंटरसेप्ट किए गए संदेशों के अनुसार, पाकिस्तान की इंटर-सर्विस इंटेलिजेंस जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों से ‘कुछ बड़ा’ नहीं करने और उन्हें सुरक्षा बलों पर एक बड़े आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए मजबूर करने से ‘नाराज’ है। हाल ही में, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आरएस पुरा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ड्रोन से गिराए गए हथियारों का एक जखीरा बरामद किया है। एसओजी ने बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया था। हथियारों के जखीरे में दो मैगजीन, 70 कारतूस, एक पिस्तौल, तीन डेटोनेटर, तीन रिमोट से नियंत्रित आईईडी, तीन बोतल विस्फोटक, कोर्टेक्स वायर का एक बंडल, दो टाइमर आईईडी और छह ग्रेनेड शामिल थे।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 2 =