श्रीनगर। जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाक़ों से भारी बारिश होने के और बाढ़ आने की ख़बर है। इससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। इनमें सबसे अधिक नुक़सान हिमाचल प्रदेश में हुआ है। उत्तर प्रदेश में भी कई जगहों पर बहुत बारिश हुई है। भारतीय मौसम विभाग ने शनिवार को भी कांगड़ा, मंडी, चंबा, बिलासपुर और सिरमौर ज़िलों में भारी बारिश होने का अनुमान जताया है। राहत और बचाव अभियान चलाया जा रहा है। उत्तर रेलवे के अनुसार, कांगड़ा ज़िले में चक्की नदी में अचानक आई बाढ़ से रेलवे का एक क्षतिग्रस्त रेलवे पुल शनिवार की सुबह ढह गया।

जम्मू और कश्मीर के उधमपुर ज़िले के मुत्तल इलाक़े के समोले गांव में मिट्टी के एक मकान के गिरने से दो बच्चों की मौत हो गई है। वहीं श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने बताया है कि भारी बारिश के चलते अचानक आई बाढ़ से रियासी ज़िले के कटरा से वैष्णो देवी मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं की आवाजाही रोक दी गई। उसके अनुसार, हालात पर नज़र रखने के लिए पुलिस और सीआरपीएफ़ के जवानों को तैनात किया गया है और अभी तक किसी अप्रिय घटना की ख़बर नहीं है। हालांकि कुछ देर पहले श्रद्धालुओं की आवाजाही फिर शुरू हो गई है।

वहीं समाचार एजेंसी ने हिमाचल प्रदेश के आपातकालीन संचालन केंद्र के हवाले से बताया है, ”राज्य के हमीरपुर ज़िले के खीरी सुजानपुर गांव में ब्यास महल खैरात नदी में बाढ़ आने के बाद अब तक 22 में से 18 लोगों को बचाया गया है। अब तक, जान-माल के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। उधर मंडी ज़िले के उपायुक्त अरिंदम चौधरी ने बताया, ”कल रात सेगली से हमें बादल फटने की सूचना मिली। उसके बाद तुरंत पुलिस, एनडीआरएफ़ से संपर्क करके उन्हें काम पर लगाया गया।

Shrestha Sharad Samman Awards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen + 2 =